यूरोपीय संघ की तैयारी: साल के अंत तक 90 फीसदी रूसी तेल के आयात पर लग सकता है बैन

प्रतिबंध में समुद्र के रास्ते लाया जाने वाला रूसी तेल भी शामिल, The embargo also included Russian oil brought by sea

यूरोपीय संघ की तैयारी: साल के अंत तक 90 फीसदी रूसी तेल के आयात पर लग सकता है बैन

यूक्रेन पर रूस लगातार 3 महीनों से हमले कर रहा हैं। ऐसे में रूस को सबक सिखाने के लिए कई पश्चिमी देशों ने उस पर कई तरह के प्रतिबंध भी लगाए हैं। अब यूरोपीय संघ 90 फीसदी तक रूसी तेल के आयात पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी कर रहा है। इस खबर से तेल की कीमतों में भारी उछाल भी देखने को मिला है। इस प्रतिबंध में समुद्र के रास्ते लाया जाने वाला रूसी तेल भी शामिल है, जिससे पाइपलाइन द्वारा आयात करने के लिए अस्थायी छूट की अनुमति मिलती है। हंगरी देश इस पर पहले सहमति नहीं दे रहा था जो कि काफी महत्वपूर्ण था।

90फीसदी रूसी तेल में की जाएगी कटौती
यूरोपीय संघ परिषद के अध्यक्ष चार्ल्स मिशेल ने कहा कि समझौते में रूस से आयात किया जाने वाला दो-तिहाई से अधिक तेल शामिल है। इस पर बैन से रूस युद्ध मशीन के लिए वित्तपोषण का एक बड़ा स्रोत कम हो जाएगा। यूरोपीय संघ की कार्यकारी शाखा के प्रमुख उसुर्ला वॉन डेर लेयेन ने कहा कि ये बड़ा कदम इस वर्ष के अंत तक रूस से यूरोपीय संघ के लिए आयात होने वाले करीब 90 फीसदी तेल में कटौती की जाएगी।

यूक्रेन को दी जाएगी सहायता राशि
यूरोपीय संघ परिषद के अध्यक्ष चार्ल्स मिशेल ने कहा कि ईयू के नेताओं ने युद्धग्रस्त देश की अर्थव्यवस्था का समर्थन करने के लिए यूक्रेन को 9 बिलियन यूरो (9.7 बिलियन डॉलर) की सहायता देने पर भी सहमति व्यक्त की। हालांकि, अभी ये स्पष्ट नहीं है कि ये राशि किस रूप में दी जाएगी।

रूस ने दिया जवाब
वहीं, वियना में अंतरराष्ट्रीय संगठनों के रूस के स्थायी प्रतिनिधि मिखाइल उल्यानोव ने ट्विटर पर यूरोपीय संघ के फैसले का जवाब देते हुए कहा है कि रूस अन्य आयातकों को ढूंढेगा।

बैन की खबर से तेल की कीमतों में भारी उछाल
बता दें कि ईयू के नेताओं के ऐलान के बाद यहां तेल की कीमतों में उछाल देखने को मिला है। मंगलवार को जुलाई के लिए अमेरिकी क्रूड वायदा 2.81% बढ़कर 118 डॉलर हो गया, जबकि ब्रेंट क्रूड वायदा 0.93% बढ़कर $122.80 डॉलर हो गया।