वैक्सीनेशन: बच्चों की तबियत बिगड़ने के सीएमएचओ ने बीएमओ और डॉक्टर थमाया नोटिस, दो वेतनवृद्धि रोकने की चेतावनी

वैक्सीनेशन के बाद बच्चों की तबियत बिगड़ने के मामले में कलेक्टर ने उठाया सख्त कदम, Collector took strict steps in case of deteriorating health of children after vaccination

वैक्सीनेशन: बच्चों की तबियत बिगड़ने के सीएमएचओ ने बीएमओ और डॉक्टर थमाया नोटिस, दो वेतनवृद्धि रोकने की चेतावनी

सतना। जिले के अमदरा स्वास्थ्य केंद्र में वैक्सीनेशन के बाद बच्चों की तबियत बिगड़ने के मामले में अब कलेक्टर ने सख्त रुख अपना लिया है। कलेक्टर के निर्देश के बाद सीएमएचओ ने मैहर बीएमओ और अमदरा अस्पताल में पदस्थ डॉक्टर को नोटिस थमा कर तीन दिन में जबाव मांगा है। साथ ही दोनों को दो वर्षीकवृद्धि रोकने की चेतवनी दी है।

सीएमएचओ सतना डॉक्टर अशोक कुमार अवधिया ने मैहर बीएमओ डॉ ज्ञानेश गौतम और अमदरा में पदस्थ डॉ ऋतु सिंह को नोटिस देकर जवाब तलब किया है। दोनों डॉक्टर्स को दो वार्षिक वेतनवृद्धि रोकने की चेतावनी दी गई है। जवाब देने के लिए दोनों को 3 दिन की मोहलत दी गई है।

ज्ञात हो कि खेरवासानी माध्यमिक शाला के बच्चों को गुरुवार को अमदरा स्वास्थ्य केंद्र में कोविड से बचाव की वैक्सीन लगने के बाद हड़कंप मच गया था। एक के बाद एक 23 बच्चों की तबियत बिगड़ गई थी। अमदरा अस्पताल में इलाज न मिल पाने के कारण बच्चों को मैहर सिविल अस्पताल ले जाना पड़ा था। तीन गंभीर बच्चियों को आॅक्सीजन सपोर्ट पर सतना जिला अस्पताल लाया गया था, जहां उन्हें पीआईसीयू में भर्ती किया गया था। इस मामले में अमदरा अस्पताल में पदस्थ डॉक्टर्स की बड़ी लापरवाही सामने आई थी।

ग्रामीणों और बच्चों के परिजनों ने कलेक्टर और सीएमएचओ को भी बताया था कि अमदरा अस्पताल में पदस्थापना के बावजूद डॉ ऋतु सिंह वहां महीने में कभी-कभार ही दिखाई पड़ती हैं। जिस वक्त बच्चों की तबियत बिगड़ी थी डॉ पीयूष पांडेय भी अस्पताल में थे लेकिन इलाज करने के बजाय वे भी वहां से दबे पांव निकल गए थे। इस गंभीर लापरवाही के मामले को कलेक्टर अनुराग वर्मा ने बेहद संजीदगी से लिया है। उन्होंने सीएमएचओ डॉ अवधिया को कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।