पैगंबर पर टिप्पणी मामले में दिल्ली पुलिस का एक्सन: नूपुर-नवीन समेत 9 के खिलाफ नफरत फैलाने का केस दर्ज

विभिन्न सोशल मीडिया संस्थाओं की भूमिका की होगी जांच, The role of various social media organizations will be investigated

पैगंबर पर टिप्पणी मामले में दिल्ली पुलिस का एक्सन: नूपुर-नवीन समेत 9 के खिलाफ नफरत फैलाने का केस दर्ज

नई दिल्ली। पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ कथित टिप्पणी को लेकर भाजपा से सस्पेंड हो चुकीं नूपुर शर्मा पर दिल्ली पुलिस ने सोशल मीडिया पर संदेशों के जरिए नफरत फैलाने (हेट मैसेज) के मामले में एफआईआर दर्ज की है। इसमें कुछ अन्य लोगों समेत दिल्ली भाजपा के पूर्व नेता नवीन कुमार जिंदल का भी नाम शामिल है, जो कथित तौर पर नफरत भरे संदेश फैला रहे हैं, विभिन्न समूहों को उकसा रहे हैं और ऐसी स्थिति पैदा कर रहे हैं जो सार्वजनिक शांति-व्यवस्था बनाए रखने के लिए हानिकारक है।

दिल्ली पुलिस ने कहा कि विशेष प्रकोष्ठ की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशन (आईएफएसओ) इकाई ने नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल समेत करीब 9 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। पुलिस के मुताबिक प्राथमिकी में नूपुर शर्मा, नवीन कुमार जिंदल, शादाब चौहान, सबा नकवी, मौलाना मुफ्ती नदीम, अब्दुर रहमान, गुलजार अंसारी, अनिल कुमार मीणा और पूजा शकुन के नाम शामिल हैं। इन सभी पर नफरत भरे बयान के जरिए माहौल खराब करने का आरोप है।

पुलिस उपायुक्त (आईएफएसओ) केपीएस मल्होत्रा ने कहा कि प्राथमिकी विभिन्न धर्मों के खिलाफ बयान को लेकर है। मल्होत्रा ने कहा कि यह इकाई साइबर स्पेस पर अशांति पैदा करने के इरादे से झूठी और गलत सूचनाओं को बढ़ावा देने में विभिन्न सोशल मीडिया संस्थाओं की भूमिका की जांच करेगी। बता दें कि एक टीवी डिबेट में कथित विवादास्पद धार्मिक टिप्पणी के लिए भाजपा नेता नूपुर शर्मा के निलंबन पर विवाद के बीच यह मामला सामने आया है। बता दें कि इससे पहले नूपर शर्मा के खिलाफ मुंबई में भी एफआईआर दर्ज की जा चुकी है।

गौरतलब है कि बीते दिनों नूपुर शर्मा ने ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में मिले कथित शिवलिंग मसले पर एक टीवी डिबेट के दौरान पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ कथित तौर पर विवादास्पाद टिप्पणी की थी, जिसके बाद उनकी आलोचना होने लगी थी। कई मुस्लिम देशों ने भी इस बयान की निंदा की, जिसके बाद भाजपा ने उन्हें पार्टी से सस्पेंड कर दिया, वहीं विवादास्पद ट्वीट को लेकर नवीन कुमार जिंदल को भी पार्टी से निकाल दिया।

पैगंबर मोहम्मद पर कथित टिप्पणी के बाद नूपुर शर्मा को जान से मारने की धमकी मिली, जिसे लेकर दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज की और नूपुर शर्मा और उनके परिवार को सुरक्षा मुहैया कराई। नूपुर शर्मा ने उन्हें मिल रहीं धमकियों का हवाला देते हुए पुलिस से सुरक्षा मुहैया कराने का अनुरोध किया था।