मुख्यमंत्री की अफसरों को दो टूक 'जिसमें दम हो, वहीं फील्ड में रहे ...

भोपाल। मध्य प्रदेश में शिकारियों-पुलिस की मुठभेड़ की घटना के बाद भी आईजी के घटनास्थल पर नहीं पहुंचने पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुबह वीडियो कांफ्रेंस कर मैदानी पुलिस अफसरों को चेतावनी दी। सीएम ने कहा जिसमें दम हो वह फील्ड में रहें।

मुख्यमंत्री की अफसरों को दो टूक   'जिसमें दम हो, वहीं फील्ड में रहे ...

गुना की घटना के बाद सख्त हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान के तेवर

भोपाल। मध्य प्रदेश में शिकारियों-पुलिस की मुठभेड़ की घटना के बाद भी आईजी के घटनास्थल पर नहीं पहुंचने पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुबह वीडियो कांफ्रेंस कर मैदानी पुलिस अफसरों को चेतावनी दी। सीएम ने कहा जिसमें दम हो वह फील्ड में रहें।  ज्ञात हो कि मुख्यमंत्री ने रविवार सुबह डीजीपी सुधीर सक्सेना के साथ मैदानी पुलिस अधिकारियों एसपी, डीआईजी, आईजी और संभाग आयुक्त-जिला कलेक्टरों की कानून व्यवस्था पर समीक्षा की। 
उन्होंने साफ शब्दों में कह दिया है कि उन्हें शिकारी, गोकशी, जुआ-सट्टा, ड्रग्स और अवैध शराब बेचने वालों को मध्य प्रदेश से खत्म करना है। उनका संकल्प है कि मध्य प्रदेश में अपराधियों को बख्शा नहीं जाएगा। सीएम चौहान ने सभी अधिकारियों को कहा कि फील्ड में उन्हें केवल वहीं अफसर चाहिए जो चल सकें। इस संबंध में बैठक में मौजूद डीजीपी सुधीर सक्सेना को भी उन्होंने कहा कि वे एकबार सभी मैदानी अफसरों से चर्चा कर लें। जिनमें दम हो वहीं फील्ड में रहें। उन्हें अपराधियों पर कार्रवाई चाहिए। अपराधियों को नेस्तनाबूद करना है। 

कार्रवाई में देरी नहीं होना चाहिए
इसके साथ मुख्यमंत्री ने कहा कि करप्शन में भी जीरो टॉलरेंस चाहिए। एक्शन में कोई देरी नहीं होना चाहिए। चौहान ने ग्वालियर आईजी को हटाए जाने का हवाला देते हुए कहा कि घटना की सूचना मिलने के बाद भी वे घटनास्थल पर नहीं गए। ऐसे में वे कोई एतियात नहीं बरतेंगे। घटना में तुरंत घटनास्थल पर जाना होगा और यह कोशिश होना चाहिए कि अपराध नहीं हों।

प्रदेश में आगामी पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव के पहले मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा कि भोपाल से लेकर चौपाल तक पेयजल की व्यवस्था दुरुस्त की जाए। मिशन नगरोदय कार्यक्रम के शुभारंभ के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने पंचायत के काम को लेकर जिला पंचायत के सीईओ को निर्देश दिए कि अमृत सरोवर, आजीविका मिशन की गतिविधियां, मनरेगा के काम, ग्रामीण आवास सहित जल संरचनाओं के निर्माण और ग्रामीण क्षेत्रों में चल रहे विभिन्न निर्माण कार्यों का विशेष रूप से ध्यान रखें। किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि कोई भी गड़बड़ी हुई तो सीधे जिम्मेदार होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं  जनता से लाइव कॉन्टैक्ट में हूं। ध्यान रखें।