कांग्रेस ने ओबीसी के साथ किया था महापाप, हमने दिलवाया है आरक्षण

कांग्रेस ने पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के साथ महापाप किया था। हर कदम पर ओबीसी का विरोध किया। जब हम 27 प्रतिशत आरक्षण के साथ चुनाव करा रहे थे तो हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट चले गए। अब कमल नाथ और कांग्रेस नाटक कर रहे हैं और आरोप लगा रहे हैं। भाजपा सरकार का दृढ़ संकल्प था कि ओबीसी आरक्षण के साथ ही चुनाव कराए जाएंगे। इसके लिए जो भी संभव था, वो सब किया। इसका ही परिणाम है कि हमने असंभव को संभव करके दिखाया।

कांग्रेस ने ओबीसी के साथ किया था महापाप, हमने दिलवाया है आरक्षण

 सम्मान समारोह में ओबीसी आरक्षण को लेकर शिवराज ने कांग्रेस पर कसा तंज

भोपाल। सामाजिक समरसता के साथ सामाजिक न्याय भारतीय जनता पार्टी का मूल मंत्र है। हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी ने सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास का नारा दिया है। हम इस रास्ते पर आगे बढ़ते रहेंगे, सामाजिक न्याय के लिए काम करते रहेंगे। कांग्रेस ने ओबीसी आरक्षण में रोड़े अटकाने के भरपूर प्रयास किए। हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक कांग्रेस की यही रणनीति रही। लेकिन हम सब के सामूहिक प्रयासों से कांग्रेस को हर जगह मुंह की खानी पड़ी। अब यही कांग्रेस हमारा विरोध कर रही है। ओबीसी आरक्षण के मुद्दे पर लोगों को भ्रमित करने का काम कर रही है। हमें कांग्रेस की इन कोशिशों को कामयाब नहीं होने देना है। यह बात प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित पिछड़ा वर्ग के आभार समारोह को संबोधित करते हुए कही।


ओबीसी आरक्षण के लिए किए गए प्रयासों के लिए पिछड़ा वर्ग द्वारा शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान एवं प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा का सम्मान किया और आभार जताया। इस समारोह में पिछड़ा वर्ग की विभिन्न समाजों के नेता, भाजपा नेता एवं पदाधिकारी, प्रदेश सरकार के मंत्रीगण शामिल हुए। समारोह को पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग के अध्यक्ष गौरीशंकर बिसेन, प्रदेश सरकार के मंत्री भूपेंद्रसिंह एवं रामखिलावन पटेल ने भी संबोधित किया।

पिछड़ा वर्ग को न्याय दिलाने का संकल्प आज पूरा हो गयाः शिवराजसिंह चौहान

आभार समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि आज मैं पूरी तरह से संतुष्ट हूं, आनंद से भरा हुआ हूं। आज मन में जितना आनंद भरा हुआ है, उसकी कल्पना नहीं की जा सकती। अगर कोई मुझसे यह पूछे कि 16 साल के मुख्यमंत्री काल में कौन सा ऐसा काम किया है,  जिसने दिल को सुकून दिया हो,  तो मैं कहूँगा कि ओबीसी के आरक्षण के चुनाव करा पाना। चौहान ने कहा कि मैंने विधानसभा में संकल्प लिया था ओबीसी आरक्षण के साथ ही चुनाव कराने का। कमलनाथ जी के सामने कहा था कि अगर कोई साथ देगा तो उसके साथ, कोई साथ नहीं देगा तो उसके बिना, अगर कोई विरोध करेगा तो उसके बावजूद हम ओबीसी आरक्षण के साथ ही मध्यप्रदेश में चुनाव कराएंगे। आज यह संकल्प पूरा हो गया है।

ओबीसी विरोध का रहा है कांग्रेस का इतिहास
चौहान ने कहा कि आज कांग्रेस हम पर आरोप लगा रही है, कमलनाथ बंद का आह्वान कर रहे हैं। मैं कांग्रेस नेता कमलनाथ, सोनिया जी, राहुल जी, प्रियंका जी और जितने भी जी हैं, सभी से यह पूछना चाहता हूं कि महाराष्ट्र में आपके सहयोग वाली सरकार है, वहां क्यों चुनाव में ओबीसी को आरक्षण नहीं मिला? ओबीसी हितैषी होने का दंभ भरने वाले ये लोग महाराष्ट्र में क्यों ओबीसी को आरक्षण नहीं दिला पाए? वहां बिना ओबीसी आरक्षण के ही पंचायत चुनाव हो गए। लेकिन हमने मध्यप्रदेश में इसके लिए अंतिम सांस तक लड़ाई लड़ी। चौहान ने कहा कि कांग्रेस और उसके कमलनाथ जैसे नेताओं का विचार ही ओबीसी विरोधी रहा है। 1952 से लेकर 1972 तक के चुनाव में कभी कांग्रेस ने ओबीसी आरक्षण के बारे में नहीं सोचा। 1977 में मंडल कमीशन बना, उसकी रिपोर्ट भी आई, लेकिन कांग्रेस की सरकारों ने उसे ठंडे बस्ते में डाल दिया। 1989 में वीपी सिंह की सरकार ने उसे लागू किया।


वोट बैंक की राजनीति के लिए दिखावा करती रही कांग्रेस
चौहान ने कहा कि कांग्रेस ने ओबीसी को वोटबैंक समझकर उसका राजनीतिक दोहन किया, कभी यह नहीं चाहा कि ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण मिले। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने ओबीसी को 27 प्रतिशत आरक्षण देने की घोषणा तो की, लेकिन हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान अपने एडव्होकेट जनरल को ही नहीं भेजा। कांग्रेस ने न तो अदालतों में कैविएट दायर की, न स्टे हटवाने की पहल की और न ही इस मामले को सुप्रीम कोर्ट ले जाने के लिए कदम उठाए। चौहान ने कहा कि हमारी सरकार ने जब ओबीसी आरक्षण के साथ पंचायत चुनाव की बात कही, तो कांग्रेस इसके खिलाफ पहले हाईकोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट चली गई। अगर गहराई से देखें, तो हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में केस लगाने वाले सभी पक्षकार कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता ही थे। जब सुप्रीम कोर्ट ने बिना आरक्षण के चुनाव कराने का आदेश दिया, तो सबसे ज्यादा खुश भी ये कांग्रेसी ही हुए। चौहान ने कहा कि कांग्रेस की पूरी कोशिश थी कि पिछड़ा वर्ग को आरक्षण का लाभ न मिले, वह सिर्फ दिखावा करती रही। चौहान ने कहा कि सब जगह से हार चुकी कांग्रेस अब आरक्षण के मुद्दे पर लोगों को भड़काने, भ्रमित करने और समाज को तोड़ने का काम कर रही है, लेकिन इसे हमें सफल नहीं होने देना है।


ओबीसी को न्याय दिलाना ही रहा उद्देश्य
चौहान ने कहा कि देश में दशकों तक कांग्रेस की सरकारें रहीं, लेकिन पिछड़ा वर्ग को आरक्षण देने का काम किया हमारे प्रधानमंत्री मान नरेंद्र मोदी जी ने। उन्होंने ही पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया।  किया है कांग्रेस ने कभी नहीं किया। चौहान ने कहा कि ओबीसी को न्याय दिलाना हमारी प्राथमिकता था और इसके लिए हमने हर संभव प्रयास किये। हमने 27 प्रतिशत आरक्षण की लड़ाई पूरी ताकत से लड़ी। कोर्ट के कहने पर गौरीशंकर बिसेन जी की अध्यक्षता में पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग का गठन किया। इस आयेग ने गांव-गांव घूमकर रिपोर्ट तैयार की। पूरी सरकार हमने इस काम में लगा दी थी। दिन और रात हमारे दफ्तरों ने काम किया और निकायवार रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में सबमिट किया। मैं स्वयं निवेशकों से मिलने के लिए विदेश जाने वाला था, लेकिन मैंने सब कैंसिल किया और संकल्प लिया कि ओबीसी वर्ग को न्याय दिलाएंगे। आज मैं गर्व के साथ कह रहा हूं कि हम न्याय दिलाने में सफल रहे।

झूठ बोलने वाले कांग्रेस नेताओं को बेनकाब करे पिछड़ा वर्ग समाज : विष्णुदत्त शर्मा

प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि चुनाव में पिछडा वर्ग आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट में जो निर्णय दिया है, वह मध्यप्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे भारत में सबसे बड़ा ऐतिहासिक फैसला है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और ओबीसी कमीशन के प्रयासों से पिछडा वर्ग को न्याय मिला है। आज भारतीय जनता पार्टी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जो संकल्प लिया था, वह संकल्प सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के साथ पूरा हुआ है। लेकिन कांग्रेस के नेता कमलनाथ और दिग्विजय सिंह गांव-गांव में झूठ फैलाकर छल-कपट की राजनीतिक कर रहे हैं। संपूर्ण ओबीसी समाज को झूठ फैलाने वाले इन नेताओं को जवाब देना होगा और इनके झूठ को बेनकाब करना होगा।
जवाब दें कांग्रेसी -पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा क्यों नहीं दिया?


शर्मा ने कहा कि आजादी के बाद लगातार 55 वर्षों तक कांग्रेस ने राज किया, लेकिन पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा नहीं दिया। कांग्रेस ने हमेशा पिछड़ा वर्ग के साथ छल और कपट किया। भारतीय जनता पार्टी हमेशा से पिछड़ा वर्ग हितैषी रही है। इस प्रतिबद्धता को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने पूरा करते हुए पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया और पिछड़ा वर्ग के लोगों को अधिकार संपन्न बनाया। उन्होंने कहा कि जब भाजपा की प्रदेश सरकार 27 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण के साथ पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव करा रही थी। तब कांग्रेस के नेता सुप्रीम कोर्ट गये और चुनाव को अवरूद्ध कराने के लिए याचिका लगाई। शर्मा ने कहा कि कांग्रेस सिर्फ ओबीसी विरोधी है, इसलिए वह हर कदम इस वर्ग के साथ छल करती आई है।

पिछड़ा वर्ग के लिए भाजपा सरकार हमेशा प्रतिबद्धः गौरीशंकर बिसेन
पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग के अध्यक्ष गौरीशंकर बिसेन ने संबोधित करते हुए कहा कि पिछड़े वर्ग का कल्याण, उन्नति एवं अधिकार दिलाना मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं भारतीय जनता पार्टी का सदैव संकल्प रहा है। हम गौरवान्वित हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की सरकार ने पिछड़ा आयोग बनाकर संवैधानिक दर्जा दिया है और राज्य सरकारों से परामर्श लेकर जो जातियां पिछडा वर्ग में नहीं हैं उन्हें शामिल करने का और जो केंद्र की सूची में हैं उन्हें राज्य सूची में शामिल करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने प्रदेश के पिछड़ा वर्ग को न्याय दिलाने का काम किया है।

सुप्रीम कोर्ट का निर्णय भाजपा सरकार और संगठन की ऐतिहासिक जीतः भूपेंद्रसिंह
प्रदेश के मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के आत्मविश्वास और दृढ़संकल्प को नमन है, जिन्होंने कहा था कि हम अंत तक लड़ेंगे और ओबीसी वर्ग को आरक्षण दिलवाकर रहेंगे। कांग्रेस कह रही थी कि अब कोई रास्ता नहीं बचा है, परंतु मुख्यमंत्री जी ने मोडिफिकेशन में जाने निर्णय लिया। सुप्रीम कोर्ट ने जिसे स्वीकार कर सुनवाई की और आज हमारे लिए गौरव का विषय है कि सुप्रीम कोर्ट ने ओबीसी को आरक्षण देने का निर्णय लिया है। सुप्रीम कोर्ट का यह निर्णय भाजपा सरकार और संगठन की ऐतिहासिक जीत है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट जाकर पंचायत चुनाव रूकवाने का काम किया, जिसके बावजूद हमारा संकल्प पूरा हुआ। इसके लिए हम मुख्यमंत्री चौहान और प्रदेश अध्यक्ष शर्मा के आभारी हैं।

भाजपा सरकार की योजनाएं पिछड़ा वर्ग पर केंद्रितः रामखिलावन पटेल
समारोह में पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग के मंत्री रामखिलावन पटैल ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार की अधिकांश योजनाएं पिछड़ा वर्ग कल्याण पर केंद्रित हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के भागीरथ प्रयासों से मध्यप्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव और नगरीय निकाय चुनाव में ओबीसी वर्ग को आरक्षण दिलाने का संकल्प पूरा हुआ है।


इस अवसर पर प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, प्रदेश शासन के मंत्री मोहन यादव, भारत सिंह कुशवाह, बृजेन्द्र सिंह यादव, सुरेश राठखेडा, पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग के सदस्य प्रदीप पटेल, मती कृष्णा गौर, पार्टी के प्रदेश महामंत्री एवं पिछडा वर्ग मोर्चा के प्रदेश प्रभारी रणवीर सिंह रावत, प्रदेश महामंत्री सु कविता पाटीदार, महिला मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष मती माया नारोलिया, किसान मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष दर्शनसिंह चौधरी, युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष वैभव पवार सहित पिछड़ा वर्ग के सांसद, विधायक, मोर्चा पदाधिकारी एवं पिछडा वर्ग समाज के विभिन्न संगठनों के प्रमुख पदाधिकारी उपस्थित थे।