भाजपा नेता और मंत्रियों के निशाने पर आए दिग्विजय सिंह

मध्य प्रदेश के राज्यपाल मंगूभाई पटेल के खिलाफ कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा की गई टिप्पणी पर भाजपा की राज्य सरकार के मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा और विश्वास सारंग ने उन्हें घेर लिया है। दिग्विजय सिंह के खिलाफ राष्ट्रपति को शिकायत करने की तैयारी की जा रही है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर हमला करते हुए बोला कि वह संवैधानिक संस्थाओं  का अपमान करती रही है। दिग्विजय सिंह तो सदैव से आदिवासियों के विरोधी रहे हैं।

भाजपा नेता और मंत्रियों के निशाने पर आए दिग्विजय सिंह

भोपाल। मध्य प्रदेश के राज्यपाल मंगूभाई पटेल के खिलाफ कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा की गई टिप्पणी पर भाजपा की राज्य सरकार के मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा और विश्वास सारंग ने उन्हें घेर लिया है। दिग्विजय सिंह के खिलाफ राष्ट्रपति को शिकायत करने की तैयारी की जा रही है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर हमला करते हुए बोला कि वह संवैधानिक संस्थाओं  का अपमान करती रही है। दिग्विजय सिंह तो सदैव से आदिवासियों के विरोधी रहे हैं।


इसके लिए उन्होंने कांग्रेस पार्टी के नेताओं के नाम लेकर उदाहरण भी दिए और कहा कि आदिवासी विरोधी वे नहीं कह रहे हैं बल्कि उनकी पार्टी के नेताओं ने ही समय-समय पर ही यह बात कही है। पूर्व मंत्री उमंग सिंघार ने एक बार कहा था दिग्विजय सिंह आदिवासी विरोधी हैं। इसी तरह जमुना देवी ने भी दिग्विजय सिंह के मुख्यमंत्रित्वकाल में कहा था कि वे दिग्विजय की भट्टी में जल रही हूं। इसी तरह शिवभानुसिंह सोलंकी भी जब सीएम की दावेदारी के बाद भी मुख्यमंत्री नहीं बन पाए थे तो दिग्विजय सिंह के लिए कुछ इसी तरह कहा था। अब राज्यपाल भी इसी आदिवासी वर्ग से आते हैं तो वे उनके साथ भी वही कर रहे हैं। राज्यपाल मंगूभाई पटेल को विमानतल पर एक कार्यकर्ता ने भाजपा का दुपट्टा पहना दिया था जिसे दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर दिया है। यह दिग्विजय सिंह ने केवल विषयांतर के लिए किया है।

दिग्विजय को बताया कांग्रेस का दीमक
नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह पर  कहा कि कांग्रेस देश के लिए दीमक की तरह है और दिग्विजय सिंह कांग्रेस के लिए दीमक हैं। मिश्रा ने कहा कहा कि दीमक की तरह ये लोग देश को और दिग्विजय कांग्रेस को चाट रहे हैं। आपको बता दें कि दिग्विजय सिंह ने आरएसएस की तुलना दीमक से की थी। गीतकार और कलाकार जावेद अख्तर पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जावेद अख्तर कला जगत से हैं, वह 'कला' करें, 'कलाकारी' नहीं। मिश्रा ने अख्तर को संबोधित करते हुए कहा कि देश में पाकिस्तान प्रायोजित आतंकी घटनाओं पर खामोशी और प्रधानमंत्री की सुरक्षा चूक पर उनकी निंदनीय टिप्पणी टुकड़े-टुकड़े गैंग की स्लीपर सेल वाली मानसिकता प्रदर्शित करती है।

कांग्रेस का कहना है कि सरकार की नीयत नहीं कि पंचायत चुनाव कराएं, इस पर डॉ. मिश्रा ने कहा कि हम कुछ भी करेंगे तो वे कमियां निकालेंगे ही। हमने अब तारीख दे दी तो इसमें कमी निकाल रहे हैं। आरक्षण के समय जब हम चुनाव में गए तो वे कोर्ट में क्यों गए? चुनाव में क्यों नहीं गए। कांग्रेस को चाहिए था कि वह चुनाव में आती लेकिन लगातार जितने उप चुनाव हुए उसमें कांग्रेसी हारी। वह हर चुुनाव से डरने लगी है। बुजुर्ग नेतृत्व है, इस कारण से वह चुनाव में नहीं आना चाहती और कमियां निकालते हैं। इंदौर हाई कोर्ट द्वारा परिसमन को रद्द करने पर कहा कि अभी चूंकि पंचायत चुनाव का परिसीमन का चुनाव आयोग ने कहा है, इसके बाद ही दूसरी बात होगी।


मैं हिन्दू विरोधी नहीं हूं कहने से दिग्विजय सिंह के पाप नहीं धूलेंगे-वीडी शर्मा
भोपाल। रावण को लगता था कि अब भगवान राम के हाथों मृत्यु पाकर ही उसे मोक्ष मिलेगा। दिग्विजय सिंह भी अब उसी रास्ते पर हैं, संघ की शरण में आकर अब इन विचारों और हिंदुत्व में जीवन है।  इसलिए वे सफाई दे रहे हैं। यह बात भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने हरदा प्रसास के दौरान मीडिया से चर्चा के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि मैं हिन्दू विरोधी नहीं हूं कहने से दिग्विजय सिंह के पाप नहीं धूलेंगे। उन्होंने  दिग्विजय सिंह के संघ और भगवा आतंकवाद को लेकर किए गए बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि आखिर दिग्विजय सिंह को अब यह कहने की जरूरत क्यों पड़ गई कि वह हिन्दू विरोधी नहीं हैं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा बुधवार को होशंगाबाद, हरदा और बैतूल जिलों के प्रवास हैं। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह ने कितने पाप किए हैं, इस देश के अंदर आतंकवाद और नक्सलवाद का समर्थन कर हिंदूत्व पर प्रहार करके। जिस स्वामी विवेकानंद ने उस संक्रमण काल के अंदर हिंदू की ध्वज पताका, भारतीय संस्कृति की प्रतिष्ठापना पूरे दुनिया में की। युवा दिवस पर दिग्विजय सिंह इस बात को कहने के लिए मजबूर हुए, तो मेरा मानना है कि यह हिंदुत्व प्रहार, भगवा आतंकवाद कहकर आपने भारतीय संस्कृति को भगवा शब्द को, जो हमारे राजपूताना की पहचान मानी जाती है। उसका आपने अपमान किया था। अब आपको लगने लगा है कि देश के अंदर, समाज के अंदर, हम इसी धारा में रहकर अब अपने पाप धो लूं, मीडिया के सामने यह कहकर कि मैं हिंदुत्व विरोधी नहीं हूं इससे आपके पाप नहीं धुलेंगे।  जनता ने आप का हिसाब किताब किया है और आगे भी करेगी। वीडी शर्मा ने हरदा में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में जनसंघ के संस्थापक सदस्य लक्ष्मी नारायण गुप्ता नन्ना जी के निधन पर शोक प्रकट किया और दो मिनट का मौन रखकर नन्ना जी को श्रृद्धांजलि दी। इस मौके पर कृषि मंत्री कमल पटेल भी मौजूद थे।

मंत्री सारंग राष्ट्रपति को शिकायत करेंगे
दिग्विजय सिंह को लेकर शिवराज सरकार के मंत्री विश्वास सारंग ने भी तीखी टिप्पणी की है। उन्होंने कहा है कि दिग्विजय सिंह ने राज्यपाल के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए जो कि हमारे अभिभावक हैं। उन्होंने कहा कि यह उनके पद की गरिमा के अनुकूल नहीं है। सारंग ने कहा है कि वे इसको लेकर वीडियो के साथ राष्ट्रपति को शिकायत करेंगे और कार्रवाई की मांग करेंगे।

मैंने कभी हिन्दू या भगवा आतंकवाद जैसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया
 भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि मैंने कभी हिन्दू या भगवा आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल नहीं किया। मैंने संघ प्रायोजित आतंकवाद कहा है। मैं कभी न हिन्दू विरोधी था न कभी हिन्दू विरोधी रहूंगा। हमारे यहां हिन्दू- मुस्लिम दोनों ने एक दूसरे के धार्मिक स्थल तोड़े है।  सावरकर जी ने हिंदुत्व शब्द अपने इस्तेमाल के लिए गढ़ा है। हिंदुत्व शब्द से हिन्दुओं का कोई लेना-देना नहीं है। धर्म का उपयोग राजनीति के लिए किया जाए हम उसके खिलाफ है। सत्य ही ईश्वर है हम उसको ही हम मानते है। मैं धार्मिक प्रवृत्ति के विचारों वाले परिवार से हूं। पिताजी महात्मा गांधी से प्रभावित थे। मेरी मां धार्मिक प्रवृत्ति वाली थी। राजमाता ने मुझसे कहा था कि जनसंघ में आ जाओ। पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने मध्यप्रदेश के राज्यपाल मंगुभाई पटेल पर हमला बोला और उनकी भूमिका पर सवाल खड़े कर दिए हैं। दिग्विजय ने एक ट्वीट कर सवाल किया है कि  क्या राज्यपाल किसी एक पार्टी के प्रचारक के रूप में कार्य कर सकता है? क्या ऐसे राज्यपाल से विपक्ष कोई उम्मीद कर सकता है। भाजपा हटाओ देश बचाओ। दरअसल, कांग्रेस के एक कार्यकर्ता ने राज्यपाल मंगूभाई पटेल का एक फोटो ट्वीट किया। जिसमें राज्यपाल भारतीय जनता पार्टी के चिन्ह कमल वाले भगवा रंग के दुपट्टा को पहने हुए दिख रहे हैं। इस ट्वीट पर दिग्विजय सिंह ने प्रतिक्रिया देते हुए सवाल खड़े किए।