एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, फडणवीस बने डिप्टी सीएम

एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, फडणवीस बने डिप्टी सीएम

मुंबई। महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच बुधवार देर रात उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद आज एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री और देवेंद्र फडणवीस ने उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। दोनों राज्यपाल ने शपथ दिलाई। पूर्व सीएम उद्धव ठाकरे ने नए मुख्यमंत्री और उप-मुख्यमंत्री को बधाई दी। उन्होंने कहा कि मैं महाराष्ट्र के नए सीएम एकनाथ शिंदे और डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस को बधाई देता हूं। मैं आशा करता हूं कि आप दोनों के माध्यम से महाराष्ट्र में अच्छे काम हों।
आरे में ही मेट्रो कार शेड बनाया जाएगा: फडणवीस 
महाराष्ट्र सरकार ने राज्य के महाधिवक्ता को निर्देश दिया है कि आरे में ही मेट्रो कार शेड बनाया जाएगा। इस संबंध में सरकार का पक्ष कोर्ट के सामने पेश किया जाए। सूत्रों के मुताबिक, डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि जलयुक्त शिवर योजना को फिर से शुरू करने के लिए जल्द से जल्द प्रस्ताव लाया जाए।

शिवसेना नेता विकास गोगावले की राउत को चेतावनी 
शिंदे गुट के शिवसेना नेता विकास गोगावले ने कहा कि शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि वे रायगढ़ के महाड़ में रैली करेंगे। मैं उन्हें उनके सुरक्षाकर्मियों के बिना महाड़ आने की चुनौती देता हूं, 'शिवसैनिक' (पार्टी कार्यकर्ता) उन्हें 'प्रसाद' देने से नहीं रुकेंगे।
शिवसेना विधायक दीपक केसरकर का बड़ा बयान 
शिवसेना विधायक दीपक केसरकर ने कहा कि हिंदुत्व को मानने वाली 2 पार्टियां अलग हो गई थी, आज फिर से साथ जुड़ गई है। हमारे 50 साथियों का योगदान महत्वपूर्ण है। वो चाहते थे कि शिंदे साहब को एक बार मुख्यमंत्री पद मिलना चाहिए भाजपा ने इस फैसले को स्वीकार किया। 106 विधायक होने के बावजूद बीजेपी ने (एकनाथ शिंदे को सीएम बनाने का) यह फैसला लिया। इसका मतलब है कि उन्होंने बड़ा दिल दिखाया है।
विधानसभा का विशेष सत्र दो और तीन जुलाई को 
महाराष्ट्र विधानसभा का विशेष सत्र दो और तीन जुलाई को बुलाया जाएगा। इस दौरान बहुमत परीक्षण और स्पीकर का चुनाव किया जाएगा।

शरद पवार ने दी प्रतिक्रिया 
NCP प्रमुख शरद पवार ने कहा कि मैं एकनाथ शिंदे को उनकी नई जिम्मेदारी के लिए बधाई देता हूं। उन्होंने इतनी बड़ी संख्या में विधायकों को गुवाहाटी ले जाने की ताकत दिखाई। उन्होंने लोगों को शिवसेना छोड़ने के लिए प्रेरित किया। मुझे नहीं पता कि यह पहले हुआ था या नहीं, लेकिन यह बिना तैयारी के नहीं हो सकता। 

इससे पहले एकनाथ शिंदे के मुख्यमंत्री बनाने की घोषण के बाद कई घंटे तक एमवीए खेमे में सन्नाटा रहा। हालांकि रात में शपथ ग्रहण के बाद एनसीपी नेता शरद पवार ने बयान दिया कि शायद बागी गुट के दबाव में भाजपा को यह फैसला लेना पड़ा है। उन्होंने यह भी कहा कि शिंदे के मुख्यमंत्री बनने की उन्हें कोई उम्मीद नहीं थी। 

पवार ने कहा कि मैंने एकनाथ शिंदे से बात की और बधाई दी। मैंने अपनी अपेक्षाएं भी व्यक्त कीं कि एक राज्य का मुखिया पूरे राज्य का नेतृत्व करता है, न कि केवल एक पार्टी का। आप किसी पार्टी का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं, लेकिन शपथ के बाद आप राज्य का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसलिए मुझे उम्मीद है कि वह सभी विभागों के मुद्दों को हल करने के लिए काम करेंगे। मुझे लगता है कि उद्धव ठाकरे एक बार किसी पर भरोसा करने के बाद पूरी जिम्मेदारी दे देते हैं। उन्होंने एकनाथ शिंदे पर वही भरोसा दिखाया और उन्हें विधानसभा और पार्टी की जिम्मेदारी दी। मुझे नहीं पता कि यह राजनीतिक संकट उसी का नतीजा है। 

उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि देवेंद्र फडणवीस ने डिप्टी सीएम का नंबर 2 का पद खुशी से स्वीकार किया है। यह उसके चेहरे पर देखा जा सकता है। लेकिन वह नागपुर में रहे थे, एक (आरएसएस) स्वयंसेवक के रूप में यह उनका लोकाचार है, इसलिए उन्होंने यह पद स्वीकार कर लिया।