गोपाल सिंह इंजीनियर ने आष्टा में बढ़ाया भाजपा का वोट बैंक

सीहोर। लंबे समय तक कांग्रेस के पास रही आष्टा नगर पालिका सीट पर भारतीय जनता पार्टी की जीत में कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए गोपाल सिंह इंजीनियर का बहुत बड़ा योगदान है।

गोपाल सिंह इंजीनियर ने आष्टा में बढ़ाया भाजपा का वोट बैंक

सीहोर। लंबे समय तक कांग्रेस के पास रही आष्टा नगर पालिका सीट पर भारतीय जनता पार्टी की जीत में कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए गोपाल सिंह इंजीनियर का बहुत बड़ा योगदान है। पंचायत चुनाव से पहले भाजपा ने कांग्रेस के दिग्गज नेता गोपाल सिंह इंजीनियर को भाजपा में शामिल कर उन्हें जिला पंचायत अध्यक्ष भी बनाया था। इस बार भी जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए उनकी प्रबल दावेदारी मानी जा रही है, लेकिन उनका कहना है कि सीएम शिवराज सिंह और पार्टी संगठन मिलकर ही इस पद का फैसला करेंगे। उनकी मीठी वाणी, सरल व्यवहार की वजह से ही आष्टा क्षेत्र के लोगों के दिलों में गोपाल सिंह इंजीनियर आज भी राज करते है तभी तो जिला पंचायत अध्यक्ष से लेकर नगर पालिका चुनाव में उन्होंने भाजपा विधायकों, जिलाध्यक्ष और क्षेत्र के पार्टी नेताओं के साथ कदम से कदम मिलाते हुए भाजपा को जिताने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।  ज्ञात हो कि गोपाल सिंह इंजीनियर आष्टा विधानसभा से तीन बार कांग्रेस के टिकट से चुनाव लड़ चुके हैं और वह सक्रिय रूप से कांग्रेस में कार्य कर रहे थे। कांग्रेस में भी उनका रुतबा इतना था कि जब तक वह कांग्रेस में रहे भाजपा को नगर पालिका पर कब्जा करने नहीं दिया। अब जिले में कांग्रेस का जनाधार कम हो गया है।

वहीं आष्टा क्षेत्र में प्रचार के दौरान भाजपा का वोट बैंक बढ़ाने में भी गोपाल सिंह इंजीनियर ने काफी मेहनत की थी जिसका लाभ उन्हें मिला है और लंबे समय से आष्टा में कांग्रेस का दबदबा कम हुआ है। आष्टा क्षेत्रवासियों का कहना है कि गोपाल सिंह इंजीनियर जी एक ऐसे नेता है जिनका मिलनसार व्यवहार और आमजनों की हमेशा मदद करने के साथ सुख-दुख में जनता साथ खड़े रहे है तभी तो हमने इस बार कांग्रेस का साथ छोड़कर उनके साथ खड़े हुए है। गोपाल जी की तो बात अलग है हमारे आष्टा में उनके जैसा नेता नहीं है जो अपना दुख दर्द भूलकर जनता की सेवा में समर्पित रहे।

भाजपा की 18 वार्डों में से 9 पर जीत हुई है। निर्दलीय कांग्रेस से भी ज्यादा सीटें लेकर आए हैं। निर्दलीय 5 वार्डों में जीते हैं। वहीं वार्ड 16 से भाजपा के रवींद्र ने कांग्रेस की राखी परमार को 2231 वोटों से हराया है। 
वार्ड 2 से निर्दलीय आरती नामदेव ने भाजपा की पूजा को 2 वोटों से हराया है।

सीएम और संगठन की मेहनत लाई रंग
भाजपा के वरिष्ठ नेता गोपाल सिंह इंजीनियर ने स्टार समाचार को बताया कि भाजपा की जीत सीएम की जनकल्याणकारी योजनाएं और सीएम द्वारा किए गए विकास कार्यों के कारण हुई है। आष्टा नगर पालिका और पंचायत चुनाव में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा के नेतृत्व में जिले के वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने मिलकर काम किया है उसका जनता ने हमें आशीर्वाद दिया। आष्टा सहित पूरे जिले में भाजपा को जो एतिहासिक जीत मिली है उसका श्रेय मैं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा सहित आष्टा क्षेत्र के कार्यकर्ता और आष्टा की जनता को देता हूं जिन्होंने भाजपा को वोट देकर भारी मतों से जिताया है।

68 में से 28 प्रत्याशियों की जमानत जब्त; कांग्रेस, भाजपा, आप सहित निर्दलीय भी शामिल

इस बार के आष्टा नगरपालिका चुनाव में काफी रोचक परिणाम सामने आए हैं। मतदाताओं ने कांग्रेस,भाजपा के प्रमुख प्रत्याशियों को एक तरफ जहां नकार दिया है ,वहीं दूसरी ओर 68 प्रत्याशियों में से 18 विजयी हुए हैं।

वहीं दूसरी ओर शेष 50 प्रत्याशियों में से आधे से अधिक अर्थात 28 प्रत्याशियों की जमानत जब्त हुई है। जिसमें कांग्रेस, भाजपा एवं आप पार्टी सहित निर्दलीय प्रत्याशी शामिल है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार वार्ड क्रमांक 1 से कांग्रेस के सुरेंद्र कुमार, कमलेश सांवरिया, सगीर अली, जहूर, वार्ड क्रमांक 2 से गुलरेज खान उर्फ राजा पठान, राधिका अनिल राठौर मल्ला, रेवाराम विश्वकर्मा, सुनील कुमार शर्मा, वार्ड क्रमांक 3 से शंकर सक्सेना, वार्ड क्रमांक 4 से भाजपा के नवीन कुमार शर्मा जिन्हें मात्र 72 वोट मिले।

रईस उद्दीन पप्पू डिस्क, यहां पर दूसरे नंबर पर आप पार्टी के नसीर खा रहे। वार्ड क्रमांक 5 कांग्रेस की असमा सईद अली, शहाना शब्बू राइन, वार्ड क्रमांक 6 सुबराति शाह उर्फ सुब्ब, वार्ड क्रमांक 8 मुस्ताक बी भाजपा जिन्हें मात्र 80 वोट मिले।

नसरीन जहां पति मोहम्मद राशिद, वार्ड क्रमांक 11 शेख हसीब भाजपा जिन्हें मात्र 150 वोट मिले, आप पार्टी के बब्बन खान जिन्हें मात्र 7 वोट मिले ,रशीद पठान ,वार्ड क्रमांक 13 सुल्ताना बी पति शाकिर मंसूरी जिन्हें 42 वोट मिले। वार्ड क्रमांक 14 राधिका भैरवे पत्नी राहुल जिन्हें 109 वोट मिले, वार्ड क्रमांक 15 राजेंद्र सिंह, अखिलेश जैन, मखमल सिंह, वार्ड क्रमांक 16 ओम प्रकाश चौरसिया, वार्ड क्रमांक 18 कांग्रेस की लीला राजपूत,आप पार्टी की सोनू सुराणा34 वोट मिले एवं रेणु सोनी को 57 वोट मिले। इस प्रकार इन सभी की जमानत जब्त होने पर 55 हजार 500 रुपए शासन के कोष में जमा हो गए।