झोपड़ी में लगी आग: शिवपुरी में दो सगी बहनें जिंदा जलीं 

हादसे के वक्त चचेरे भाई-बहन के साथ बाहर खेल रही थीं, At the time of the accident, the cousins were playing outside with their siblings.

झोपड़ी में लगी आग: शिवपुरी में दो सगी बहनें जिंदा जलीं 

शिवपुरी। जिले के एक गांव में झोपड़ी में आग लगने से दो सगी बहनें जिंदा जल गईं। दोनों मासूम हादसे के वक्त अपने चचेरे भाई-बहनों के साथ घर के पास खेल रही थीं। अचानक आग देखकर दोनों बहनें झोपड़ी के अंदर गईं, लेकिन बाहर नहीं निकल पाईं। चचेरे भाई-बहन वहां से दूर भाग गए, जिससे उनकी जान बच गई। बताया जा रहा है कि झोपड़ी के ऊपर से एक अस्थाई तार गुजरा है, जिसमें शॉर्ट सर्किट से आग लगी होगी।

नयागांव टीला-मजरा निवासी कृपाल सिंह लोधी ने बताया कि घर के पास ही उनकी झोपड़ी बनी हुई है, जिसमें भूसा और लकड़ियां रखी रहती हैं। उनके भाई का परिवार भी पास ही रहता है। सुबह सभी काम पर चले गए थे। पत्नी घर के काम में जुट गई। दोनों बेटियां शिवांशी (4) और निव्या (2) अपने चचेरे भाई-बहन समीक्षा (3) और अभिजीत (4) पिता कल्याण सिंह डांगी के साथ घर के पास ही झोपड़ी के बाहर खेल रही थीं।

चीख-पुकार सुनकर पहुंचे परिजन
देर शाम अचानक चीख-पुकार सुनकर बच्चों की मां घर से बाहर आई तो झोपड़ी में आग लगी थी। इतने में ग्रामीण मौके पर पहुंचे, उन्होंने आग बुझाने की कोशिश की। दमकल और पुलिस को कॉल किया। दमकल ने पहुंचकर आग पर काबू पाया, लेकिन तब तक दोनों बेटियां जिंदा जल चुकी थीं।

भूसा और लकड़ी के कारण भीषण हुई आग
आग किन कारणों से लगी, यह तो पता नहीं है, लेकिन भूसा और लकड़ी के कारण आग तेजी से फैली और इससे पहले की उस पर काबू पाया जाता आग भीषण हो चुकी थी। संभावना जताई जा रही है कि  बच्चियां खेलते हुए झोड़पी में घुसी हों या फिर आग देखकर डर के मारे झोपड़ी में जाकर छिप गई हों। बच्चियां तो झोपड़ी में चली गईं, लेकिन दोनों चचेरे भाई-बहन बाहर की ओर भागे, जिससे उनकी जान बच गई।

शॉर्ट सर्किट से आग का अंदेशा
मौके पर पहुंचे पुलिस सहित नायब तहसीलदार और थाना प्रभारी ने पूरी घटना की जानकारी ली। थाना प्रभारी गब्बर सिंह गुर्जर ने कहा, प्रारंभिक जांच में पता चला है कि झोपड़ी के ऊपर से एक अस्थाई तार गुजरा है। संभवत: उसी में शॉर्ट सर्किट से आग लगी होगी।