पंचायत चुनाव में सीहोर से कांग्रेस का सूपड़ा साफ, गोपाल सिंह इंजीनियर बने जिलाध्यक्ष

सीहोर। सीहोर में भाजपा के दांवपेच के आगे कांग्रेस फिर नाकाम हो गई। जिला पंचायत अध्यक्ष और उपाध्यक्ष दोनों पदों पर भाजपा समर्थित उम्मीदवारों ने विजयश्री हासिल की है। सीहोर में जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव शुक्रवार को हो गया।

पंचायत चुनाव में सीहोर से कांग्रेस का सूपड़ा साफ, गोपाल सिंह इंजीनियर बने जिलाध्यक्ष

स्टार समाचार ने पहले ही बता दिया था गोपाल सिंह इंजीनियर जिलाध्यक्ष बनेंगे
सीहोर। सीहोर में भाजपा के दांवपेच के आगे कांग्रेस फिर नाकाम हो गई। जिला पंचायत अध्यक्ष और उपाध्यक्ष दोनों पदों पर भाजपा समर्थित उम्मीदवारों ने विजयश्री हासिल की है। सीहोर में जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव शुक्रवार को हो गया। 17 जिला पंचायत सदस्यों के द्वारा अध्यक्ष चुना गया। लंबी खींचतान के बाद भाजपा के गोपाल इंजीनियर जिला पंचायत अध्यक्ष बन गए। गोपाल इंजीनियर को 11 मत जबकि कांग्रेस के शांशक सक्सेना को 6 मत मिले। स्टार समाचार ने पहले ही बता दिया था कि गोपाल इंजीनियर ही जिला पंचायत अध्यक्ष बनेंगे।

देवीपुरा मंडल अध्यक्ष गिरीश कुमार सोलंकी ने दी जीत की बधाई
गोपाल सिंह इंजीनियर की जीत ने भाजपा कार्यकर्ताओं में जबरदस्त उत्साह भर दिया है। जिला पंचायत सीहोर में भाजपा की जीत पर देवीपुरा मंडल में भी उत्साह का माहौल कार्यकर्ताओं में नजर आया। इस दौरान ग्रामीणों ने मिठाई बांटकर खुशियां  मनाई और आतिशबाजी के साथ ढोल धमाकों के साथ जश्न मनाया  देवीपुरा भाजपा मंडल अध्यक्ष  लालू बना चाँदबड़ जागीर ने  जिला पंचायत अध्यक्ष गोपाल सिंह  व उप अध्यक्ष जीवन सिंह को जीत पर  शिवराज सिंह  जी चौहान , जिला अध्यक्ष रवि मालवीय , सीहोर विधायक सुदेश राय का आभार  माना है। उन्होंने कहा ये जीत भाजपा के हर कार्य करता की जीत है। सुदेश राय ने कहा कि शिवराज सिंह और वीडी शर्मा के साथ जिले के सभी भाजपा कार्यकर्ताओं ने तन-मन से पंचायत चुनाव में जो मेहनत की उसी का नतीजा है कि आज भाजपा से पंचायत चुनाव में कांग्रेस का सफाया हो गया है। मैं इस जीत का श्रेय जीत पार्टी कार्यकर्ताओं और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को देता हूं। साथ ही गोपाल सिंह इंजीनियर और जीवन सिंह मंडलोई को भी जीत की शुभकामनाएं देता हूं। 
वहीं गोपाल सिंह इंजीनियर ने जीत के बाद सभी कार्यकर्ताओं और जनता का आभार जताया है। उन्होंने कहा कि ये जीत शिवराज सिंह चौहान , वीडी शर्मा और जिले के पार्टी नेताओं ने जिस लग्न से मेरा साथ दिया है। इसलिए जीत का श्रेय में उन्हें देता हूं और जनता के विकास के लिए दिन-रात मेहनत करूंगा। 
ज्ञात हो कि नवनिर्वाचित जिला पंचायत अध्यक्ष गोपाल इंजीनियर कुछ महीने पहले ही भाजपा में शामिल हुए हैं, तब उनकी पत्नी को मप्र सरकार ने जिला पंचायत अध्यक्ष प्रधान नामांकित किया था, लेकिन कुछ दिन बाद ही पंचायत चुनाव की तारीख का ऐलान हो गया। इसके बाद जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीतने के बाद माना जा रहा था कि अध्यक्ष के लिए गोपाल सिंह ही भाजपा के उम्मीदवार होंगे और हुआ भी वैसा ही। शुक्रवार को गोपाल इंजीनियर को भाजपा समर्थित प्रत्याशी बनाया गया और वो जिला पंचायत के अध्यक्ष का चुनाव जीत गए। 

उल्लेखनीय है कि गोपाल इंजीनियर विधानसभा क्षेत्र आष्टा से कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं, जिसमे वह पराजित हो गए थे। गोपाल इंजीनियर जिला पंचायत के वार्ड नंबर- 8 से जिला पंचायत सदस्य बने हैं। 56 साल के के गोपाल इंजीनियर का व्यापार कृषि एवं आर्किटेक्ट है। उन्होंने बैचलर आॅफ आर्किटेचर किया है। उनकी संपत्ति 5 करोड़ रुपए से ज्यादा है।

कांग्रेस की तरफ से सक्सेना और भाजपा की तरफ से एक सांसद और तीन विधायकों ने संभाला मोचा

सीहोर जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में भाजपा और कांग्रेस आमने सामने थी। भाजपा को विजयी बनाने के लए विदिशा सांसद रमाकांत भार्गव और जिला अध्यक्ष रवि मालवीय के साथ पूर्व जिलाध्यक्ष रघुनाथ सिंह भाटी, आष्टा विधायक रघुनाथ सिंह मालवीय, इछावर विधायक करण सिंह वर्मा और सीहोर विधायक सुदेश राय ने मोर्चा संभाला था। वहीं व्यवस्था संभालने के लिए पुलिस डटी हुई थी। वहीं कांग्रेस की तरफ से पूर्व विधायक रमेश सक्सेना ने मोर्चा संभाला हुआ था। चुनाव से पहले जिला पंचायत भवन में भाजपा के जनप्रतिनिधि और पदाधिकारियों को प्रवेश दिया गया। जबकि कांग्रेस के किसी भी व्यक्ति को प्रवेश नहीं दिया जा रहा था। इसका विरोध रमेश सक्सेना ने किया और पुलिस को नियमों का पाठ पढ़ा दिया। जिसके बाद वे अपने समर्थकों के साथ जिला पंचायत भवन में दाखिल हुए।