सीएम और पीएम बनना चाहती हैं मायावती, राष्ट्रपति का पद मंजूर नहीं

मायावती ने सपा अध्यक्ष अखिलेश पर साधा निशाना, Mayawati targets SP President Akhilesh

सीएम और पीएम बनना चाहती हैं मायावती, राष्ट्रपति का पद मंजूर नहीं

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती ने समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव पर जोरदार पलटवार करते हुए कहा है कि वह एक बार फिर उत्तर प्रदेश की सीएम और आगे चलकर देश की पीएम बनना चाहती हैं, लेकिन उन्हें राष्ट्रपति का पद मंजूर नहीं है।

लखनऊ में गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में मायावती ने समाजवादी पार्टी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सपा वाले मुझे राष्ट्रपति बनाने का सपना देख रहे हैं, क्योंकि इससे उनका यूपी में सीएम का रास्ता साफ हो जाएगा।

दबे-कुचले लोगों के लिए समर्पित जीवन
उन्होंने कहा कि सपा वाले ये भूल जाएं, मैं पीएम और उत्तर प्रदेश का फिर से सीएम बनने का सपना देख सकती हूं, लेकिन मैं राष्ट्रपति बनने का सपना नहीं देख सकती। क्योंकि मैं ऐश और आराम की जिंदगी नहीं चाहती, मैंने अपनी जिदंगी बाबा साहब भीमराव अंबेडकर और मान्यवर कांशीराम के रास्ते पर चलकर दबे-कुचले लोगों को अपने पैरे को खड़ा करने के लिए समर्पित की है। यह इनको मालूम होना चाहिए। यह भी सब जानते हैं कि यह काम मैं देश का राष्ट्रपति बनकर नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश की सीएम और आगे चलकर देश का पीएम बनकर कर सकती हूं।

मुस्लिमों की खराब हालत के लिए अखिलेश जिम्मेदार
मायावती ने कहा कि इस बार उत्तर प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में बसपा को सत्ता में आने से रोकने के लिए सपा और बीजेपी ने मिलकर इस चुनाव को पूरी तरह से हिंदू-मुस्लिम रंग दिया है। इसी के कारण बीजेपी फिर से यहां सत्ता में आई है और इसके लिए समाजवादी पार्टी ही जिम्मेदार है। इसी के साथ उन्होंने कहा कि मुस्लिमों की खराब हालत के लिए अखिलेश यादव जिम्मेदार हैं।