छह गुना से भी अधीक बढ़ी महंगाई: श्रीलंका में पेट्रोल 82 रुपये और डीजल 111 रुपये हुआ महंगा

अप्रैल में मुद्रास्फीति एक साल पहले की तुलना में बढ़कर 33.8 फीसद पर पहुंच गई है, Inflation rises to 33.8 percent in April compared to a year ago

छह गुना से भी अधीक बढ़ी महंगाई: श्रीलंका में पेट्रोल 82 रुपये और डीजल 111 रुपये हुआ महंगा

आर्थिक संकट के चलते तबाही के कगार पर पहुंच चुका श्रीलंका महंगाई की आग में जल रहा है। सरकारी पेट्रोलियम कंपनी सीलोन पेट्रोलियम कॉरपोरेशन ने पेट्रोल के दाम में प्रति लीटर 82 और डीजल के दाम में प्रति लीटर की वृद्धि की है। अप्रैल में मुद्रास्फीति एक साल पहले की तुलना में बढ़कर 33.8 फीसद पर पहुंच गई है। 

श्रीलंका के जनगणना एवं सांख्यिकी विभाग ने बताया कि अप्रैल, 2022 में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति 33.8 फीसद पर रही जो एक साल पहले के 5.5 फीसद की तुलना में छह गुना से भी अधिक है। इसके साथ ही अप्रैल में खाद्य मुद्रास्फीति भी 45.1 फीसद के चिंताजनक स्तर पर पहुंच गई। देश में जरूरी सामानों की भारी किल्लत को देखते हुए मुद्रास्फीति में यह तीव्र वृद्धि दर्ज की गई है।

श्रीलंका में पेट्रोल 420 रुपये और डीजल 400 रूपये पहुंचा
सरकार ने पेट्रोल की खुदरा कीमत में 24.3 फीसद और डीजल की कीमत में 38.4 फीसद की भारी बढ़ोतरी करने की घोषणा की है। ईंधन उत्पादों की भारी कमी का सामना कर रहे श्रीलंका में पेट्रोल-डीजल की खपत में कमी लाने के लिए यह सख्त कदम उठाया गया है। गत 19 अप्रैल के बाद पेट्रोल-डीजल की कीमतों में श्रीलंका सरकार ने दूसरी बार बढ़ोतरी की है। इस वृद्धि के बाद श्रीलंका में पेट्रोल की कीमत 420 रुपये और डीजल की कीमत 400 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गई है जो कि अबतक का सर्वोच्च स्तर है।

भारत कर रहा सहयोग 
ऊर्जा एवं बिजली मंत्री कंचना विजयशेखर ने ट्विटर पर कहा कि मंत्रिमंडल से स्वीकृत ईंधन कीमत-निर्धारण फॉमूर्ले के आधार पर नई कीमतें तय की गई हैं।  विदेशी मुद्रा के भारी संकट के कारण ईंधन एवं खाद्य उत्पादों की भी खरीद कर पाने में श्रीलंका सरकार नाकाम हो रही है। इस बीच, भारत ने ईंधन खरीद के लिए श्रीलंका को 50 करोड़ डॉलर की ऋण-सुविधा देकर किस्तों में पेट्रोल एवं डीजल की आपूर्ति की है।  इस मुश्किल दौर में सात विकसित देशों के समूह जी-7 ने श्रीलंका को ऋण राहत दिलाने में मदद करने की घोषणा की है।