आरोग्य मंथन: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 28 मई को करेंगे कार्यक्रम का शुभारंभ

कोरोना के बाद आयुर्वेद के प्रति देश-दुनिया में बढ़ रहा रूझान, After Corona, there is a growing trend towards Ayurveda in the country and the world.

आरोग्य मंथन: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 28 मई को करेंगे कार्यक्रम का शुभारंभ

भोपाल। देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ‘एक देश एक स्वास्थ्य-वर्तमान समय की आवश्यकता’ विषय पर 28 मई 2022 को कुशाभाऊ ठाकरे सभागार (मिंटो हाल) में आयोजित आरोग्य मंथन कार्यक्रम का उद्घाटन करेंगे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राज्यपाल मंगु भाई पटेल एवं प्रदेश के आयुष मंत्री रामकिशोर कावरे उपस्थित रहेंगे।

आरोग्य भारती के राष्ट्रीय संगठन सचिव डॉक्टर अशोक कुमार वार्ष्णेय ने बताया कि कोरोना कालखंड में समाज के प्रत्येक व्यक्ति ने अनुभव किया कि प्रत्येक रोग की सटीक औषधि उपलब्ध होना ही आवश्यक नहीं है। स्वास्थ्य ठीक रखने के लिए छोटे-छोटे उपक्रम भी अत्यंत प्रभावी होते हैं।

उन्होंंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति अगर स्वयं के स्वास्थ्य के लिए जागरुक हो जाए तो वह बगैर औषधि के स्वस्थ रह सकता है। यह कार्य सभी प्रकार के चिकित्सक एवं स्वास्थ्य में रुचि रखने वाले व्यक्ति भी कर सकते हैं। उपचार की दृष्टि से केवल एलोपैथिक चिकित्सा ही नहीं एलोपैथी के साथ आयुर्वेद एवं होम्योपैथी अथवा पृथक-पृथक आयुर्वेद और होम्योपैथी भी इस विषम दौर में कारगर होती दिखाई दी।

कोरोना के बाद देश दुनिया का रुझान आयुर्वेद के प्रति बढ़ा है। इसी के दृष्टिगत यह आयोजन किया जा रहा है,जिसमें आरोग्य भारती के संस्थापक अध्यक्ष डाक्टर राघवेंद्र कुलकर्णी का मुख्य वक्तव्य होगा, साथ ही डाक्टर संजय गुप्ता चिकित्सा शिक्षा एवं शोध कार्य विषय पर प्रकाश डालेंगे । डाक्टर इंद्रनील बसु क्लीनिकल प्रैक्टिस एवं सार्वजनिक स्वास्थ्य विषय पर अपने विचार रखेंगे।