उत्तर प्रदेश: सपा ने रामपुर से आजम खान की पत्नी को उतारा, आजमगढ़ से डिंपल की जगह धर्मेंद यादव को टिकट

आजमगढ़ में बीजेपी और बसपा के बाद सपा ने भी अपने उम्मीदवार को ऐलान किया, After BJP and BSP in Azamgarh, SP also announced its candidate

उत्तर प्रदेश: सपा ने रामपुर से आजम खान की पत्नी को उतारा, आजमगढ़ से डिंपल की जगह धर्मेंद यादव को टिकट

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ और रामपुर में होने वाले लोकसभा के उपचुनाव के लिए समाजवादी पार्टी ने उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी है। पार्टी ने रामपुर से आजम खान की पत्नी तनजीन फातिमा और आजमगढ़ से डिंपल यादव की जगह धर्मेंद यादव को टिकट दिया है। इससे पहले आजमगढ़ में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने पूर्व विधायक शाह आलम उर्फ गुडडू जमाली और बीजेपी ने निरहुआ को अपना उम्मीदरवार घोषित कर चुकी है। 

एक न्यूज एजेंसी के मुताबिक लोकसभा उपचुनाव के लिए सपा के उम्मीदवार तय हो गए हैं। धर्मेंद्र यादव को आजमगढ़ और आजम खान की पत्नी तनजीम फातिमा को रामपुर से टिकट दिया गया है। बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव में रामपुर और आजमगढ़ सीट पर सपा को जीत मिली थी। आजमगढ़ से अखिलेश यादव और रामपुर से आजम खान ने बाजी मारी थी। इसके बाद इस साल मार्च में हुए विधानसभा चुनाव में इन दोनों नेताओं के जीत हासिल करने के बाद आजमगढ़ और रामपुर सीट खाली हो गई। यहां पर 23 जून को जनता अपने सांसद का चुनाव करने के लिए वोट डालेगी।  

धर्मेंद यादव का इनसे होगा मुकाबला
आजमगढ़ में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और बीजेपी ने पहले ही अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी थी। बसपा ने पूर्व विधायक शाह आलम उर्फ गुडडू जमाली को अपना उम्मीदवार बनाया है। वहीं बीजेपी ने भोजपुरी फिल्म स्टार व गायक दिनेश लाल यादव  'निरहुआ' को टिकट दिया है।  

अखिलेश को हार का डर
अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव को आजमगढ़ सीट से टिकट नहीं दिया गया है। मौजूदा स्थिति में आजमगढ़ सपा के लिए सेफ सीट नहीं है, ऐसे में पार्टी हार के डर से डिंपल को उतारने का खतरा नहीं उठाई है। पार्टी ने डिंपल यादव की जगह धर्मेंद यादव को यहां से अपना उम्मीदवार बनाया है।

पॉलिटिक्ल एक्सपर्ट्स के मुताबिक, सपा को आजमगढ़ या रामपुर में हारने का डर है। अगर ऐसा होता है तो माना जाएगा मुसलमान सपा से दूर जा रहे हैं और 2024 के लोकसभा चुनाव में भी पार्टी को वोट नहीं देंगे। रामपुर सीट की बात करें तो सपा ने आजम खान की पत्नी तनजीन फातिमा को टिकट दिया है।

बीजेपी के उम्मीदवारों के बारे में भी जानें
भोजपुरी फिल्मों के अभिनेता और लोकगायक दिनेश लाल यादव 2019 के लोकसभा चुनाव में आजमगढ़ में समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव के विरूद्ध बीजेपी के उम्मीदवार थे और उन्हें हार मिली थी। बीजेपी ने दिनेश लाल यादव 'निरहुआ' पर फिर से दांव लगाया है।

रामपुर में बीजेपी ने पूर्व विधान परिषद सदस्य घनश्याम लोधी पर दांव लगाया है। लोधी विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे। अति पिछड़ी जाति से आने वाले घनश्याम लोधी 2016 में सपा से विधान परिषद सदस्य चुने गये थे और उन्हें आजम खान का करीबी माना जाता था लेकिन, विधानसभा चुनाव के दौरान सपा ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया। हालांकि, लोधी ने उस वक्त दावा किया कि वह दो दिन पहले ही सपा छोड़ चुके हैं। निर्वाचन आयोग के अनुसार, रामपुर और आजमगढ़ लोकसभा सीटों पर 23 जून को मतदान होगा और मतगणना 26 जून को होगी। उपचुनाव के लिए अधिसूचना 30 मई को जारी की गई थी।