समरस पंचायत: रंग लाई सीएम की मुहिम, बिना चुनाव चुनी जा रहीं गांव की सरकारें 

सीएम ने समरस पंचायतें बनने पर की थी पुरस्कृत करने की घोषणा, CM had announced to reward for the formation of samaras panchayats

समरस पंचायत: रंग लाई सीएम की मुहिम, बिना चुनाव चुनी जा रहीं गांव की सरकारें 

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के पहले प्रदेश में सकारात्मक वातावरण बनाने के लिए समरस पंचायतें बनाने की अपील और ऐसी पंचायतों को पुरस्कृत करने की घोषणा रंग लाई है। सीएम के गृह जिले सीहोर की 33 ग्राम पंचायतों के समरस पंचायत बनने पर और विभिन्न जिलों के सात वार्डों के प्रत्याशी निर्विरोध चुने गए हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने सभी प्रतिनिधियों को शुभकामनाएं दी हैं। 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की इस पहल का व्यापक असर हुआ और सीहोर जिले की 33 ग्राम पंचायतें समरस पंचायतें बनीं। इसके अलावा विभिन्न जनपदों के सात वार्डों के प्रत्याशी निर्विरोध चुने गए। आधिकारिक जानकारी के अनुसार बुधनी जनपद की नौ ग्राम पंचायतें जिनके सरपंच निर्विरोध चुने गए, उनमें ग्राम पंचायत मढ़ावन, चिकली, जैत, वनेटा, खेरी सिलगेंना, कुसुमखेड़ा, पीलीकरार, ऊंचाखेड़ा तथा तालपुरा शामिल हैं। इसी प्रकार नसरुल्लागंज जनपद की 17 ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधि निर्विरोध चुने गए हैं। इन में पिपलानी, इटावाकला, चौरसाखेडी, बडनगर, रिछाडिया कदीम, गल्लिौर, छापरी, हाथीघाट, खात्याखेडी, आंबाजदीद, तिलाडिया, सीलकंठ, ससली, कोसमी, मोगराखेड़ा लावापानी तथा बोरखेडी शामिल हैं। 

यहां भी हुआ निर्विरोध निर्वाचन 
मध्य प्रदेश के इछावर जिले में ग्राम पंचायत मायोपानी, सहारन, गाजाखेड़ी तथा जमुनिया हटेसिंह एवं आष्टा जनपद में आवलीखेड़ा एवं अतरालिया तथा सीहोर जिले में आमला ग्राम पंचायत के सरपंच निर्विरोध चुने गए हैं। बुधनी जिले के छह वार्डों के जनपद सदस्य निर्विरोध चुने गए। इसमें खाण्डाबड, जहानपुर, बनेटा, सरदारनगर, बोरना, बकतरा वार्ड शामिल हैं। नसरुल्लागंज जनपद के वॉर्ड क्रमांक 5 इटारसी से भी निर्विरोध जनपद सदस्य निर्वाचित हुए। 

किसे कितना मिलेगा इनाम
बता दें कि ऐसी ग्राम पंचायतें जिसके सरपंच निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं, उन पंचायतों को 5 लाख रुपये तथा सरपंच पद हेतु वर्तमान निर्वाचन एवं पिछला निर्वाचन निरंतर निर्विरोध होने पर पुरस्कार राशि 7 लाख रुपये एवं ऐसी ग्राम पंचायत जिसके सरपंच तथा सभी पंच निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं, उन पंचायतों को 7 लाख रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा। ऐसी ग्राम पंचायत जिसके सरपंच तथा सभी पंच महिला निर्वाचित हुए हैं, उनके लिए पुरस्कार राशि रुपये 12 लाख एवं पंचायत में सरपंच एवं पंच के सभी पदों पर महिलाओं के निर्वाचन निर्विरोध रूप से हुए हैं उन्हें 15 लाख रुपये का पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।