वित्तीय अधिकार वापस लेने के बाद नाराज हुए सरपंच

सरपंचों के वित्तीय अधिकार वापस लेने के बाद से सभी जिलों के सरपंच मुखर हो गए हैं।  छिंदवाड़ा जिले में सरपंच जनसुनवाई में पहुंचे और उन्होंने अपने वित्तीय अधिकार वापस देने के लिए कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। सरपंचों ने मांग की है कि उन्हें फिर से पंचायतों के संचालन की जिम्मेदारी दी जाए।

वित्तीय अधिकार वापस लेने के बाद नाराज हुए सरपंच

पंचायत चुनाव निरस्त होने के बाद से बनी गहमागहमी

भोपाल। सरपंचों के वित्तीय अधिकार वापस लेने के बाद से सभी जिलों के सरपंच मुखर हो गए हैं।  छिंदवाड़ा जिले में सरपंच जनसुनवाई में पहुंचे और उन्होंने अपने वित्तीय अधिकार वापस देने के लिए कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। सरपंचों ने मांग की है कि उन्हें फिर से पंचायतों के संचालन की जिम्मेदारी दी जाए। सरपंचों ने दलील दी कि पंचायतों को राज्य के प्रशासकीय अधिकारी चला रहे है जो गलत है। सरपंचों ने ज्ञापन देकर मांग उठाई कि न्यायालय ने पंचायत चुनाव पर अनिशिचत काल के लिए रोक लगा दी है, ऐसे में पंचायत में वित्तीय अधिकार की मांग सरपंचों के दी जाए। सरपंचों का कहना है कि अगर उन्हें उनके वित्तीय अधिकार फिर से वापस नहीं दिए गए तो प्रदेशभर में आंदोलन करेंगे। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव कराने के लिए नए सिरे से पंचायतों का परिसीमन होगा। इसमें उन पंचायत या गांव को शामिल किया जाएगा जो नगरीय निकाय में शामिल हो गए हैं।\
 डूब क्षेत्र में आ गए हैं या फिर पिछले परिसीमन में छूट गए हैं। नई किसी भी पंचायत का गठन उस क्षेत्र की न्यूनतम आबादी एक हजार होने पर ही होगी।

पंचायतों की मतदाता सूची तैयार करने नया कार्यक्रम जारी
राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा ग्राम पंचायत की फोटो युक्त मतदाता सूची तैयार करने के लिए नया कार्यक्रम घोषित किया है। इस संबंध में पूर्व में 29 दिसंबर 2021 को जारी कार्यक्रम को निरस्त कर दिया गया है। मतदाता सूची 1 जनवरी 2022 के आधार पर तैयार की जाएगी। सचिव राज्य निर्वाचन आयोग बीएस जामोद ने जानकारी दी है कि उप जिला निर्वाचन अधिकारी और मास्टर ट्रेनर्स का राज्य स्तरीय प्रशिक्षण वीडियो कांफ्रेंसिंग से 14 जनवरी को दिया जाएगा। रजिस्ट्रीकरण, सहायक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी और मास्टर ट्रेनर्स की नियुक्ति और जिला स्तरीय प्रशिक्षण 14 से 17 जनवरी के बीच किया जाएगा। उन्होंने बताया है कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा एक जनवरी 2022 की स्थिति में प्रकाशित अंतिम मतदाता सूची के आधार पर मतदाताओं को यथा स्थान प्रवेश करने के लिए समय सारणी निर्धारित की गई है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा ग्राम पंचायत एवं उनके वार्डों के परिसीमन की कार्रवाई के बाद मतदाताओं को उनके  क्षेत्र अनुसार यथा स्थान प्रविष्ट किया जाकर ग्राम पंचायत की मतदाता सूची का प्रकाशन एवं अनुवर्ती कार्रवाई की जाएगी।
 पूरी प्रक्रिया में  कोविड-19 से संबंधित गाइडलाइंस का पालन करने के निर्देश भी दिए गए हैं।