प्रयागराज: एक ही परिवार के पांच लोगों की निर्मम हत्या से सनसनी, एक मासूम जिंदा बची

हत्या की वारदात के बाद हत्यारों ने कमरे में भी लगाई आग, After the murder the killers also set fire to the room

प्रयागराज: एक ही परिवार के पांच लोगों की निर्मम हत्या से सनसनी, एक मासूम जिंदा बची

प्रयागराज। थरवई के खैवजपुर गांव में एक ही परिवार के पांच लोगों की निर्मम हत्या कर दी गई। इनमें दंपती के साथ उनकी बेटी बहू और 2 साल की पौत्री शामिल है। हत्यारों ने सभी पर धारदार हथियार से वार कर मौत के घाट उतार दिया। उत्तर प्रदेश पुलिस ने मौके पर पहुंच कर शवों को कब्जे में ले लिया है और मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। 

जनकारी के मुताबिक थरवई, खैवजपुर में रहने वाले राम कुमार यादव (55), उसकी पत्नी कुसुम देवी (52), बेटी मनीषा (25), बहू सविता (27) और पौत्री मीनाक्षी (2) की अज्ञात हत्यारों ने धारदार हथियार से हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपियों ने घर के एक कमरे में आग लगा दी। सुबह स्थानिय लोगों ने घर से धुंआ निकलता देखा तो मौके पर पहुंचे। जहां पर लोगों ने एक ही परिवार के पांच लोगों की खून से सनी लाशें देख पुलिस को सूचना दी। हत्या की वारदात के मृतक राम कुमार यादव की एक अन्य पौत्री साक्षी (5) जिंदा बच गई। हत्या किसने और क्यों की इस बारे में फिलहाल कुछ पता नहीं चल सका है। पुलिस आला अफसर मौके पर हैं जांच पड़ताल जारी है।
 
महिला व तीन बेटियों की गला रेतकर हत्या, पति फंदे पर लटका मिला
इससे पहले प्रयागराज के नवाबगंज के खागलपुर गांव में 16 अप्रैल को प्रीति तिवारी (38) व उसकी तीन बेटियों माही(12), पीहू(8) और कुहू(3) की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी, जबकि पति राहुल तिवारी (42) फंदे पर लटका मिला था। सभी के शव घर के भीतर पड़े मिले थे। मौके पर एक सुसाइड नोट भी मिला था, जिसमें ससुरालवालों को घटना का जिम्मेदार बताया गया। पुलिस तहरीर के आधार पर चार लोगों पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया था।

राहुल मूल रूप से कौशाम्बी के भदवा गांव का रहने वाला था। वह करीब ढाई महीने से खागलपुर में किराये के मकान में पत्नी व बेटियों संग रह रहा था। 16 अप्रैल को सुबह बहुत देर तक परिवारवालों के न दिखाई देने पर पड़ोसी बुलाने पहुंचे तो आंगन में राहुल को फंदे पर लटका देखा। शोरगुल पर गांव वाले जुटे और भीतर जाकर देखा तो कमरे में प्रीति व तीनों बेटियों के रक्तरंजित शव पड़े थे। जांच पड़ताल में पता चला कि प्रीति व तीनों मासूमों को गला रेतकर मारा गया था। 

दो पन्नों के सुसाइड नोट में 11 नाम 
जांच पड़ताल के दौरान पुलिस को घर से ही दो पन्नों का एक सुसाइड नोट मिला। इसमें ससुरालपक्ष के कुल 11 लोगों के नाम लिखे थे, जिन पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया गया था। यह भी लिखा है कि इन लोगों की प्रताड़ना से मजबूर होकर ही यह कदम उठा रहा हूं।