यूपी चुनाव- परिणाम से पहले भाजपा पर ईवीएम में गड़बड़ी का आरोपी, सपाईयों का हंगामा

अखिलेश ने कार्यकर्ताओं से कहा काउंटिंग सेंटर की घेराबंदी कर ढोल लेकर आजादी के अफसाने गाएं

यूपी चुनाव- परिणाम से पहले भाजपा पर ईवीएम में गड़बड़ी का आरोपी, सपाईयों का हंगामा

उत्तर प्रदेश में चुनाव संपन्न हो गए है, लेकिन अभी परिणाम आना है। इससे पहले समाजवादी पार्टी ने भाजपा पर ईवीएम में गड़बडी के आरोप लगाए हैं। अखिलेश यादव ने कहा कि वाराणसी में ईवीएम को इधर-उधर किया जा रहा है। जहां बीजेपी हार रही है, उन जिलों के डीएम के पास मुख्यमंत्री और प्रमुख सचिव का फोन जा रहा है। काउंटिंग स्लो रखिएगा। सपाईयों ने अलीगढ़ धनीपुर मंडी, बनारस पड़ड़िया मंडी, सुल्तानपुर, बरेली बहेड़ी, जालौन और सोनभद्र में ईवीएम में गड़बड़ी होने की बात कही है।

अखिलेश यादव ने कहा कि बनारस में ईवीएम का एक ट्रक पकड़ा गया है। एक ट्रक भाग गया है। बरेली में कूड़े की गाड़ी में बैलेट पेपर्स से भरे 3 बक्से मिले हैं। सोनभद्र में भी हेराफेरी की जा रही है। सरकार वोट की चोरी कर रही है। हालांकि, देर शाम एसीएस नवनीत सहगल ने इन आरोपों का खंडन किया। उन्होंने कहा कि चुनाव में इस्तेमाल सभी ईवीएम स्ट्रांग रूम में सीआरपीएफ के कब्जे में है। उधर, सपा के प्रतिनिधिमंडल ने इन मामलों की शिकायत चुनाव आयोग से की है।

ईवीएम को क्यों ले जाया जा रहा?
उन्होंने कहा कि बनारस में बिना सिक्योरिटी के ईवीएम मशीनों को ले जाया जा रहा है। ईवीएम मशीन को इधर-उधर ले जाना है तो प्रत्याशियों के साथ भेजें। भाजपा का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि यह लोग तब डर गए थे जब इन लोगों ने देखा कि बंगलों और सपा सरकार में बने पार्कों की सफाई हो रही है। वहीं, एग्जिट पोल पर अखिलेश ने कहा कि मैं इस बारे में कुछ बोलना नहीं चाहता था। लेकिन जो कल एग्जिट पोल आए हैं। वह कहीं न कहीं परसेप्शन क्रिएट करना चाह रहे हैं ताकि वह वोट की चोरी कर सके और किसी को पता ना चले।

जब तक काउंटिंग न हो तब तक निगरानी रखिए
अखिलेश ने कहा कि उत्तर प्रदेश की लड़ाई लोकतंत्र की आखिरी लड़ाई है। यह चुनाव लोकतंत्र को बचाने के लिए है। क्योंकि, इसके बाद फिर बदलाव के लिए क्रांति करनी होगी। जैसे आजादी के लिए लड़ाई लड़नी पड़ी थी, वैसी ही लड़ाई फिर लड़नी पड़ेगी। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अगर हमने वोट दिया है तो फिर हमारी जिम्मेदारी बनती है कि वोट को बचाएं। मैं सच्चे लोगों से कहता हूं कि वे आगे आए। मैं अपनी पार्टी के लोगों से कहूंगा कि जब तक काउंटिंग न हो जाए तब तक नजर रखें। कैसे वोट बचाया जा सकता है। अब उनके बस में वही हैं, जो वह कर रहे हैं।

प्रमुख सचिव ने फोन करके धीमी काउंटिंग के लिए डीएम को कहा
अखिलेश ने कहा कि उनको जानकारी मिली है कि मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव जिलों के डीएम को फोन कर रहे हैं। कह रहे हैं कि जहां भाजपा हार रही है वहां पर काउंटिंग धीमी करें, ताकि वह हेरफेर कर सकें। डीएम सरकार के लिए काम कर रहे हैं। मैं बनारस के डीएम को जानता हूं। जब समाजवादी पार्टी का चुनाव था जब इलेक्शन कमीशन से विपक्ष के लोगों ने शिकायत की तो इलेक्शन कमीशन ने हटाया था। लेकिन इस बार ऐसा नहीं किया गया।

सपा ने की काउंटिग स्थल पर जैमर की मांग की
बैलट पेपर पकड़े गए हैं। सोनभद्र में बरेली में जिस तरीके से ही ईवीएम को ले जाया जा रहा है यह सब बड़ी बात है। इलेक्शन कमीशन को देखना चाहिए कि खुले आम जनता देख रही है कि किस तरीके से ईवीएम मशीन को लेकर इधर-उधर जा रहा है कि इलेक्शन कमीशन ने संज्ञान में क्यों नहीं लिया। जैमर की मांग मैंने इसलिए की है। क्योंकि कोई ऐसी टेक्नोलॉजी हो सकती हो जो मैनुपुलेशन किया जा सके।

एसीएस ने दी सफाई 
अखिलेश के आरोपों पर एसीएस नवनीत सहगल ने बताया कि वाराणसी में ट्रेनिंग के लिए ईवीएम को मंडी में स्थित अलग गोदाम से यूपी कॉलेज ले जाया जा रहा था। कुछ राजनीतिक लोगों ने वाहन को रोक कर उसे चुनाव में इस्तेमाल ईवीएम कह करके अफवाह फैलाई है। बुधवार को काउंटिंग ड्यूटी में लगे कर्मचारियों की सेकंड ट्रेनिंग है। हैंड्स आॅन ट्रेनिंग के लिए ये मशीन हमेशा इस्तेमाल होती है। जो ईवीएम चुनाव में इस्तेमाल हुई थी। वे सब स्ट्रांग रूम में उफढऋ के कब्जे में सील बंद हैं। वहां सीसीटीवी की निगरानी है। सभी राजनीतिक दलों के लोग वहां हैं।