एएमयू के प्रोफेसर पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप, नोटिस जारी

छात्रा के ट्वीट के बाद एएमयू ने प्रोफेसर के खिलाफ जांच कमेटी बैठाई, AMU sets up inquiry committee against professor after student's tweet

एएमयू के प्रोफेसर पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप, नोटिस जारी

अलीगढ़। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में एक छात्रा ने क्लास के दौरान प्रोफेसर द्वारा धर्म विशेष पर आपत्तिजनक टिप्पणी पर आपत्ति जताई है। इसको लेकर छात्रा की ओर मंगलवार रात एक ट्वीट भी किया गया था। इसके बाद प्रोफेसर को विश्वविद्यालय प्रशासन की और से कारण बताओ नोटिस जारी कर मामले की जांच बैठाई गई ळै। इस मामले में प्रोफेसर से 24 घंटे के भीतर जवाब तलब किया है।

एएमयू जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन के एक डिपार्टमेंट से जुड़ा है। मंगलवार की रात एक छात्रा ने क्लास में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. जितेंद्र कुमार ने पढ़ाते समय का एक फोटो ट्विटर पर पोस्ट किया। क्लास रूम में प्रोफेसर द्वारा पढ़ाते समय का जो फोटो अपलोड किया गया है, उसमें छात्रा की ओर से आपत्ति जताई गई है। छात्रा ने फोटो पोस्ट करने के साथ एक कैप्शन भी लिखा है। जिसमें बताया गया है कि क्लास में हिस्ट्री ऑफ रेप का चैप्टर पढ़ाते समय धर्म विशेष पर आपत्तिजनक टिप्पणी की गई है। छात्रा ने इसकी निंदा की है। 

छात्रा के ट्वीट के बााद बैठी जांच
छात्रा ने यह ट्वीट करने के साथ अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, पुलिस प्रशासनिक अधिकारी समेत कई लोगों को टैग किया है। छात्रा के ट्वीट करने के कुछ समय बाद पुलिस महकमे की ओर से इसका संज्ञान लिया गया। पुलिस अधिकारियों की ओर से आनन-फानन में एएमयू अधिकारियों से संपर्क साधा गया। उनको छात्रा की ओर से किए गए ट्वीट का स्क्रीनशॉट भेजा गया। विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से भी मामले की जांच बैठा दी गई है। जांच के उपरांत आगे की कार्यवाही की जाएगी। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि मामला संज्ञान में आते ही एएमयू अधिकारियों से संपर्क किया गया मामले में लिखित शिकायत मिलते ही मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

एएमयू प्रशासन ने की है कड़ी निंदा
डा. जितेंद्र कुमार लेक्चर की अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी प्रशासन और फैकल्टी ऑफ मेडिसीन ने कड़ी निंदा की है। विश्वविद्यालय प्रशासन ने कहा कि डॉ. कुमार ने छात्रों, कर्मचारियों और आम लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाया है। विश्वविद्यालय प्रशासन ने उनसे 24 घंटे के भीतर लगाए गए आरोपों पर जवाब मांगा है।

गठित की गई दो सदस्यीय जांच कमेटी
डा. जितेंद्र कुमार पर लगे आरोपों की जांच के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने दो सदस्यीय जांच कमेटी गठित कर दी है। फैकल्टी आफ मेडिसीन के डीन प्रो. राकेश भार्गव की अनुशंसा पर इस कमेटी को गठित किया गया है। यह कमेटी पूरे मामले की जांच करेगी और इस मामले को लेकर आगे उठाए जाने वाले कदमों की अनुशंसा करेगी। जांच कमेटी की अनुशंसा के आधार पर विश्वविद्यालय प्रशासन और फैकल्टी ऑफ मेडिसीन डॉ. जितेंद्र कुमार के खिलाफ कार्रवाई भी कर सकती है। दूसरी तरफ, मामला बढ़ने के बाद डॉ. जितेंद्र कुमार ने बिना शर्त माफी मांग ली है।