काशी में चिता की भस्म से खेली जाती है होली, जानें इसकी परंपरा और धार्मिक महत्व

होली पर्व को देश के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग अंदाज के साथ मनाया जाता है, लेकिन धार्मिक नगरी काशी में चिता की भस्म से होली खेलने की परंपरा है, जहां रंगभरी एकादशी के दूसरे दिन महाश्मशान मणिकर्णिका घाट पर मसान होली खेली जाती है।

काशी में चिता की भस्म से खेली जाती है होली, जानें इसकी परंपरा और धार्मिक महत्व

Masan Holi 2023: होली का त्योहार नजदीक आते ही लोगों के मन में एक ही सवाल रहता है कि आखिर होली कब है। होली पर रंग-गुलाल के साथ कई तरह के पकवानों का भी लोगों को इंतज़ार रहता है। हिंदू धर्म में होली पर्व का विशेष महत्व है और पूरे देश में होली के त्योहार काफी उत्साह के साथ मनाया जाता है।

होली पर्व को देश के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग अंदाज के साथ मनाया जाता है, लेकिन धार्मिक नगरी काशी में चिता की भस्म से होली खेलने की परंपरा है, जहां रंगभरी एकादशी के दूसरे दिन महाश्मशान मणिकर्णिका घाट पर मसान होली खेली जाती है।
 

Read More: Holika Dahan Shubh Muhurat 2023: होली कब है? जानें तिथि, पूजा विधि-शुभ मुहूर्त और महत्व  

उत्साह के साथ खेली जाती है मसान होली
उत्तर प्रदेश के ऐतिहासिक धार्मिक शहर वाराणसी में महाश्मशान कहे जाने वाले मणिकर्णिका घाट पर ‘मसान होली’ पूरे उत्साह के साथ खेली जाती है और यहां शिव भक्त चिताओं की राख से होली खेलते हैं। डमरू की गूंज के साथ शिव भक्त घाट स्थित मसान नाथ मंदिर में भगवान शिव की पूजा करते हैं और भोलेनाथ को भस्म चढ़ाते हैं और बाद में एक दूसरे को चिता की भस्म लगाकर मसान होली खेलते हैं।
 

Read More: Adhik Maas : 2023 में बनेगा दुर्लभ संयोग, 19 साल बाद दो महीने का होने वाला है सावन माह  

मसान होली को लेकर ये है धार्मिक मान्यता
धार्मिक मान्यता है कि रंगभरनी एकादशी के दूसरे दिन भगवान शिव सभी गणों के साथ मणिकर्णिका घाट पर सभी भक्तों को दर्शन देने आते हैं और भस्म से होली खेलते हैं क्योंकि लोगों का मानना है कि शंकर को भस्म बहुत प्रिय है और भस्म से ही वे अपना सिंगार करते हैं।

Read More: होलिका दहन से एक दिन पहले शनि देव का होगा उदय, इन राशियों की चमकेगी किस्मत 

इसके अलावा यह भी मान्यता है कि रंगभरनी एकादशी के दिन भगवान शिव माता पार्वती का विवाह से बाद गौना कराकर अपने धाम लाए और भोले बाबा ने सभी देवी-देवताओं के साथ होली खेली थी, लेकिन इस होली उत्सव में भगवान भोलेनाथ के प्रिय गण, भूत-प्रेत, पिशाच, निशाचर, और अदृश्य शक्तियां शामिल नहीं हो पाईं, ऐसे में होली खेलने के लिए भगवान शिव खुद ही मसान घाट पर आ गए थे।

Read More: Grahan 2023 : साल 2023 में पड़ेंगे 4 ग्रहण, जानें तिथि और सूतक काल


मणिकर्णिका घाट पर मसान मंदिर का इतिहास
16वीं शताब्दी में जयपुर के राजा मान सिंह ने गंगा नदी के किनारे मणिकर्णिका घाट पर मसान मंदिर का निर्माण कराया था। मणिकर्णिका घाट को हिंदू धर्म ग्रंथों में भी उल्लेख मिलता है और यहां पर रोज ही 100 लोगों का अंतिम संस्कार किया जाता है, जिसमें 5, 7, 9 तथा 11 मन लकड़ी का इस्तेमाल किया जाता है। यहां पंचपल्लव यानी पांच पेड़ों की लड़की से अंतिम संस्कार किया जाता है। मसान होली पर होली खेलने के लिए विशेष रूप से 4000 से 5000 किलो लकड़ी जलाई जाती है।