दो स्टूडेंट्स को कोरियन ड्रामा देखने पर सजा-ए-मौत

सरेआम दोनों को गोली मारी

दो स्टूडेंट्स को कोरियन ड्रामा देखने पर सजा-ए-मौत

सियोल। नॉर्थ कोरिया से एक हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। यहां हाई स्कूल में पढ़ने वाले दो स्टूडेंट्स को सजा-ए-मौत दी गई है। इनकी गलती सिर्फ इतनी थी कि इन दोनों ने साउथ कोरिया में बना शो देख लिया था। रेडियो फ्री एशिया की रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों स्टूडेंट्स की उम्र 15-16 साल थी। उन्हें सरेआम भीड़ के सामने गोली मार दी गई। दरअसल, नॉर्थ कोरिया और साउथ कोरिया के बीच तनातनी रहती है। इसके चलते नॉर्थ कोरिया के लोग साउथ कोरिया में बने शो और फिल्में नहीं देख सकते हैं।

चश्मदीद बोले- हमें पनिशमेंट देखने के लिए मजबूर किया
कोरियाई मीडिया का हवाला देते हुए ब्रिटिश अखबार  ने अपनी रिपोर्ट में लिखा- ये घटना  अब सामने आई है। एक चश्मदीद ने बताया कि उन्हें सजा देखने के लिए मजबूर किया गया। चश्मदीद ने कहा- राष्ट्रपति किम जोंग उन के अधिकारियों ने हेसन शहर में रहने वाले लोगों को एक खाली मैदान में जमा होने के लिए कहा गया। यहां कुछ अधिकारियों ने स्टूडेंट्स को भीड़ के सामने मौत की सजा सुनाई और उन्हें गोली मार दी। साउथ कोरियन ड्रामा और म्यूजिक की लोकप्रियता बढ़ते देख नॉर्थ कोरिया ने 2020 में एक कानून पारित किया था। इस कानून के तहत आइडियोलॉजिकल और कल्चरल टूल को नियंत्रित करने के लिए विदेशी सूचना और इसके प्रभाव पर बैन लगाया गया। साउथ कोरियन ड्रामा और म्यूजिक की लोकप्रियता बढ़ते देख नॉर्थ कोरिया ने 2020 में एक कानून पारित किया था। इस कानून के तहत आइडियोलॉजिकल और कल्चरल टूल को नियंत्रित करने के लिए विदेशी सूचना और इसके प्रभाव पर बैन लगाया गया।

कोरियन ड्रामा डिस्ट्रब्यूट करने के भी आरोप
दोनों स्टूडेंट्स नॉर्थ कोरिया के रियांगगैंग प्रांत के एक हाई स्कूल में मिले थे। यहां दोनों ने कई साउथ कोरियन और अमेरिकन ड्रामा और फिल्में देखीं। दोनों पर दूसरों को भी कोरियन ड्रामा दिखाने के आरोप लगे। रिपोर्ट में कहा गया कि दोनों ने अपने दोस्तों के बीच कोरियन ड्रामा डिस्ट्रब्यूट किया।