नदियों  का जल बंटवारा विवाद: मुद्दे को सुलझाने भजनलाल से मिले मोहन, दोनों राज्यों के लाखों किसानों का बदलेगा जीवन 

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने बैठक के बाद कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहार वाजपेयी के समय 2003 में योजना बनी और नदी जोड़ो अभियान चला। इस अभियान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने हाथ में लिया है।

नदियों  का जल बंटवारा विवाद: मुद्दे को सुलझाने भजनलाल से मिले मोहन, दोनों राज्यों के लाखों किसानों का बदलेगा जीवन 

भोपाल। मध्य प्रदेश और राजस्थान के लोगों को पार्वती, कालीसिंध और चंबल नदियों के पानी का भरपूर लाभ मिलेगा।इस मुद्दे पर रविवार को मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा के साथ जयपुर में चर्चा की। इस विषय पर केंद्र सरकार के सहयोग से निर्णय लिया जाएगा। 

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने बैठक के बाद कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहार वाजपेयी के समय 2003 में योजना बनी और नदी जोड़ो अभियान चला। इस अभियान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने हाथ में लिया है। राजस्थान और मध्यप्रदेश के लोगों को पार्वती, कालीसिंध और चंबल नदियों के पानी का भरपूर लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री ने राजस्थान के मुख्यमंत्री से दोनों राज्यों के हित में तीन नदियों के जल बंटवारे से संबंधित विषयों पर चर्चा की। केंद्र सरकार से विमर्श कर निर्णय लिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि इन नदियों के जल के बंटवारे से दोनों राज्यों के लाखों किसानों का जीवन बदलेगा। विकास की नई संभावनाएं खुलेंगी। पर्यटन से लेकर औद्योगिक विस्तार मे तेजी आएगी। यह निर्णय विकास के अनेक द्वार खोलेगा। नदियों की जल राशि के उपयोग से जुड़े वर्षों पुराने मुददों का समाधान होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दोनों राज्यों की नवगठित सरकारें विकास के कामों में लगातार आगे बढ़ रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में लगातार आगे बढ़ रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में 21वीं सदी में आजादी का अमृत महोत्सव काल चल रहा है। वहीं, राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में अटल जी का सपना साकार होगा।