RBI Digital Rupee: आरबीआई 1 दिसंबर को लॉन्च करेगा डिजिटल रुपया, जानें कैसे होगा इससे लेन-देन

 नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) 1 दिसंबर को रिटेल डिजिटल रुपए (Digital Rupee) को लॉन्च करने जा रहा है। रिटेल डिजिटल करेंसी के मामले में आरबीआई का यह पहला प्रोजेक्ट है। आरबीआई ने जानकारी दी है कि Digital Rupee के पायलट प्रोजेक्ट के दौरान इसके निर्माण, डिस्ट्रीब्यूशन और रिटेल इस्तेमाल की पूरी प्रक्रिया को परखा जाएगा। आरबीआई इससे पहले 1 नवंबर को होलसेल ट्रांजैक्शन के लिए Digital Rupee को लॉन्च कर चुका है।

RBI Digital Rupee: आरबीआई 1 दिसंबर को लॉन्च करेगा डिजिटल रुपया, जानें कैसे होगा इससे लेन-देन

 नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) 1 दिसंबर को रिटेल डिजिटल रुपए (Digital Rupee) को लॉन्च करने जा रहा है। रिटेल डिजिटल करेंसी के मामले में आरबीआई का यह पहला प्रोजेक्ट है। आरबीआई ने जानकारी दी है कि Digital Rupee के पायलट प्रोजेक्ट के दौरान इसके निर्माण, डिस्ट्रीब्यूशन और रिटेल इस्तेमाल की पूरी प्रक्रिया को परखा जाएगा। आरबीआई इससे पहले 1 नवंबर को होलसेल ट्रांजैक्शन के लिए Digital Rupee को लॉन्च कर चुका है।


 इसे रखने के लिए बैंक ही ग्राहकों को डिजिटल वैलेट मुहैया कराएंगे जिसे मोबाइल फोन या अन्य डिवाइस में स्टोर किया जा सकेगा। हालांकि, डिजिटल रुपया रखने पर बैंक की तरफ से कोई ब्याज नहीं दिया जाएगा। जबकि पेपर नोट को बैंक में रखने पर ब्याज मिलता है।

Read More: एक दिसंबर से हो जाएंगे कई बदलाव, जानें आपकी जेब पर क्या पड़ेगा असर

डिजिटल रुपए से ग्राहक आपस में लेनदेन भी कर सकेंगे और दुकान से खरीदारी भी कर सकेंगे। खरीदारी करने के लिए वे दुकानदार के क्यूआर कोड का इस्तेमाल करेंगे। रिजर्व बैंक के मुताबिक Digital Rupee को देश में सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) के नाम से जाना जाएगा। फिलहाल रिटेल Digital Rupee को देश की चुनिंदा लोकेशन पर ही रोल आउट किया जा रहा है और कस्टमर से लेकर मर्चेंट तक इसका इस्तेमाल कर सकेंगे।

Read More: Rahu Grah Gochar: डेढ़ साल बाद राहु बदलेंगे अपनी चाल, इन राशियों की चमकेगी किस्मत 

क्या है Digital Rupee
आरबीआई ने जानकारी दी है कि Digital Rupee डिजिटल टोकन की तरह काम करेगा और यह RBI की तरफ से जारी किए जाने वाले करेंसी नोटों का डिजिटल स्वरूप है। किसी भी तरह के वित्तीय लेनदेन में Digital Rupee को इस्तेमाल पूरी तरह से वैध और मान्य होगा।

Read More: टाटा की हो सकती है बिसलरी, 7000 करोड़ में बिकेगी 30 साल पुरानी कंपनी


Digital Rupee का ऐसे करें इस्तेमाल
Digital Rupee का डिस्ट्रीब्यूशन स्थानीय बैंकों के माध्यम से किया जाएगा। डिजिटल वॉलेट के माध्यम से Digital Rupee को दो व्यक्ति के बीच में या व्यापारिक उद्देश्य के साथ लेनदेन के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। RBI के अनुसार यूजर्स मोबाइल फोन में स्टोर बैंकों के डिजिटल वॉलेट से डिजिटल रूपी के जरिए लेन-देन कर पाएंगे। इसके इस्तेमाल के लिए दुकानदार को डिजिटल रूपी में भुगतान करना है, तो मर्चेंट के पास दिख रहे क्यूआर (QR) कोड्स के जरिए भुगतान किया जा सकता है।

Read More: नींबू का खट्टा-मीठा अचार, नाम सुनते ही आ जाये मुंह में पानी | Nimbu Ka Khatta Mitha Achar 

पायलट प्रोजेक्ट में ये 8 बैंक शामिल
- स्टेट बैंक ऑफ इंडिया
- आईसीआईसीआई बैंक
- यस बैंक
- आईडीएफसी फर्स्ट बैंक
- बैंक ऑफ बड़ौदा
- यूनियन बैंक ऑफ इंडिया
- एचडीएफसी बैंक
- कोटक महिंद्रा बैंक

Read More: Winter Healthy Diet: सर्दियों में ये चीजें जरूर खाएं, हमेशा रहेंगे चुस्त और तंदुरुस्त

Digital Rupee की वैल्यू भी कागजी नोटों जैसी
RBI के मुताबिक Digital Rupee की वैल्यू भी कागज के नोटों के बराबर ही होगी। रिजर्व बैंक ने डिजिटल करेंसी को दो कैटेगरी CBDC-W और CBDC-R में विभक्त किया है। CBDC-W करेंसी का उपयोग होलसेल करेंसी और CBDC-R का मतलब रिटेल करेंसी है। देश की अर्थव्यवस्था को डिजिटली विकसित करने की दिशा में Digital Rupee को काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।

Read More: स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है मखाने, इस तरह खाएंगे तो हमेशा बने रहेंगे जवां

अधिक सुरक्षित होगा डिजिटल रुपया
डिजिटल रुपया आरबीआइ की तरफ से बैंक देंगे, इसलिए यह वैधानिक होगा। पेपर नोट के मुकाबले यह अधिक सुरक्षित होगा। कही भी भुगतान कर सकेंगे और जब चाहे इसे नोट के रूप में बैंक में जमा कर सकेंगे। ताकि ब्याज मिल सके। एक दिसंबर से पायलट रूप में डिजिटल रुपया के सृजन, इसके वितरण और रियल टाइम में इसके खुदरा इस्तेमाल से जुड़ी तमाम प्रक्रियाओं की निगरानी की जाएगी।

Read More: शेयर मार्केट नए शिखर पर, 62,700 के पार निकला सेंसेक्स

डिजिटल रुपए से क्रिप्टोकरेंसी पर नहीं पड़ेगा कोई फर्क 

इस पायलट से मिलने वाले अनुभव के आधार पर अगले पायलट में डिजिटल रुपया टोकन का परीक्षण किया जाएगा। डिजिटल रुपए के चलन के लिए टोकन का इस्तेमाल किया जाना है। विशेषज्ञों के मुताबिक वैधानिक रूप से डिजिटल रुपए जारी करने से क्रिप्टोकरेंसी पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। क्योंकि क्रिप्टोकरेंसी का मूल्य हमेशा घटता-बढ़ता रहता है जबकि डिजिटल रुपए में ऐसा कुछ नहीं होगा।