जीत से एक कदम दूर : नेतन्याहू

हमास सभी बंधकों को मुक्त नहीं कर देता, तब तक कोई संघर्ष विराम नहीं : इस्राइली प्रधानमंत्री

जीत से एक कदम दूर : नेतन्याहू

जेरुसलम।  गाजा युद्ध को लेकर प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू का कहना है कि इस्राइल जीत से एक कदम दूर है। उन्होंने कहा कि जब तक हमास द्वारा सभी बंधकों को मुक्त नहीं किया गया, तब तक युद्धविराम नहीं होगा।  इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि इस्राइल गाजा युद्ध में जीत से एक कदम दूर है। उन्होंने कहा कि जब तक हमास सभी बंधकों को मुक्त नहीं कर देता, तब तक कोई संघर्ष विराम नहीं होगा।  बता दें कि हमास आतंकवादियों द्वारा इस्राइल पर हमले के बाद पर 7 अक्टूबर को युद्ध शुरू हो गया था। इसके छह महीने पूरे होने के अवसर पर पीएम नेतन्याहू एक कैबिनेट बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हम जीत से एक कदम दूर हैं लेकिन हमने जो कीमत चुकाई वह दर्दनाक है। उन्होंने कहा कि जब तक बंधकों की वापसी नहीं होगी, तब तक कोई युद्धविराम नहीं होगा। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि इस्राइल समझौते के लिए तैयार है, आत्मसमर्पण के लिए नहीं। नेतन्याहू के अनुसार अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा इस्राइल पर दबाव बनाया जा रहा है जबकि यह दबाव हमास के खिलाफ बनाया जाना चाहिए। इससे बंधकों की रिहाई हो सकेगी। इस्राइल के बेन गुरियन हवाई अड्डे के में इस्राइल-हमास युद्ध के बंधकों की तस्वीरें लगाई गई हैं। बता दें कि एक अप्रैल को गाजा हवाई हमले में अमेरिका की चैरिटी वर्ल्ड सेंट्रल किचन के सात सहायता कर्मियों की मौत हो गई थी। इस वजह से इस्राइल को अंतरराष्ट्रीय आक्रोश का सामना करना पड़ा है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने गुरुवार को नेतन्याहू के साथ फोन पर बातचीत की और तत्काल युद्धविराम की मांग की।

जो हमें चोट पहुंचाएगा, हम उसे चोट पहुंचाएंगे 
इस बीच नेतन्याहू ने ईरान पर इस्राइल के खिलाफ कई हमलों के पीछे होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जो हमें चोट पहुंचाएगा या हमें चोट पहुंचाने की योजना बनाएगा, हम उसे चोट पहुंचाएंगे। हम हर समय इस सिद्धांत पर चलते हैं।  बता दें कि सीरिया की राजधानी दमिश्क में ईरानी वाणिज्य दूतावास हवाई हमले में पूरी तरह से बर्बाद हो गया था। इस हमले में इमारत में मौजूद ईरान की रिवोल्यूशनरी गार्ड फोर्स के सीनियर कमांडर मुहम्मद रेजा जाहेदी सहित पांच लोगों की मौत हुई और कई घायल हुए थे। इसके बाद से अरब देशों में इस्राइल के खिलाफ उबाल है। ऐसे में गाजा में युद्ध फैलने की आशंका तेज हो गई है।