संसद का शीतकालीन सत्र कल से, सरकार ने आज बुलाई सर्वदलीय बैठक

संसद का शीतकालीन सत्र कल यानी 7 दिसबंर से शुरू होने जा रहा है। संसद सत्र से पहले केंद्र सरकार ने आज सर्वदलीय बैठक बुलाई है। सरकार ने शीतकालीन सत्र को सुचारु रूप से चलाने पर विचार कर रही है। इसके लिए सभी राजनीतिक दलों से सहयोग मांगा है। इस बैठक में सदन का सुचारु रूप से कामकाज सुनिश्चित करने, सत्र के दौरान विधायी कार्यों एवं इससे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा किए जाने की संभावना है।

संसद का शीतकालीन सत्र कल से, सरकार ने आज बुलाई सर्वदलीय बैठक
  •  कई दलों के नेता होंगे शामिल
  • शीतकालीन सत्र के 23 दिन में होगी 17 बैठकें

नई दिल्ली। संसद का शीतकालीन सत्र कल यानी 7 दिसबंर से शुरू होने जा रहा है। संसद सत्र से पहले केंद्र सरकार ने आज सर्वदलीय बैठक बुलाई है। सरकार ने शीतकालीन सत्र को सुचारु रूप से चलाने पर विचार कर रही है। इसके लिए सभी राजनीतिक दलों से सहयोग मांगा है। इस बैठक में सदन का सुचारु रूप से कामकाज सुनिश्चित करने, सत्र के दौरान विधायी कार्यों एवं इससे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा किए जाने की संभावना है। इस बैठक में लोकसभा और राज्यसभा के तमाम दलों के सांसद हिस्सा लेंगे। संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा कि हम संसद सत्र के दौरान सभी सदस्यों से उचित विचार साझा करने की उम्मीद करते हैं।

Read More: मथुरा शाही मस्जिद ईदगाह में हनुमान चालीसा पाठ के ऐलान के बाद सुरक्षा बढ़ी, ड्रोन से हो रही निगरानी

7 दिसंबर से 29 दिसंबर तक चलेगा शीतकालीन सत्र

बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 7 दिसंबर से शुरू होगा और 29 दिसंबर तक चलेगा। इस सत्र में 23 दिनों में 17 बैठकें होंगी। शीतकालीन सत्र का पहला दिन उन सांसदों की याद में स्थगित कर दिया जाएगा, जिनका हाल में ही निधन हुआ है। समाजवादी पार्टी संस्थापक मुलायम सिंह यादव इसमें शामिल हैं। ऐसी संभावना है कि इस सत्र में कोविड प्रोटोकाल लागू नहीं होगा।

साथ ही यह पहला सत्र होगा जब उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ राज्य सभा के सभापति के तौर पर कार्यभार संभालेंगे। केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने संसद के शीतकालीन सत्र की तारीखों के बारे में बताया कि इस बार संसद का शीतकालीन सत्र सात दिसंबर से शुरू होगा और यह 29 दिसंबर तक चलेगा। मानसून सत्र 2022, 18 जुलाई से 8 अगस्त के बीच में 22 दिन तक चला था। इस सत्र में 16 सेशन हुए थे।

Read More: Russia-Ukraine War: यूक्रेन ने रूस पर किया ड्रोन से हमला, दो रूसी एयरबेस तबाह, 3 सैनिकों की मौत

 इस दौरान 17 बैठकें होगी। दिल्ली एमसीडी चुनाव के परिणाम के संसद के सत्र का पहला दिन शुरू होने जा रहा है। इसके दूसरे दिन गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव का रिजल्ट आएगा। माना जा रहा है कि सत्र के पहले दो दिन चुनाव परिणाम हावी रहेंगे।

16 विधायक पेश किए जाएंगे

इस बार पारंपरिक तौर पर सत्र से पहले आयोजित किए जाने वाली सर्वदलीय बैठक के स्थान पर कार्य मंत्रणा समिति की बैठक बुलाई गई है। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला आज इस समिति की बैठक करेंगे। पिछले हफ्ते ही सरकार ने शीतकालीन सत्र के दौरान पेश किए जाने वाले 16 विधयकों की लिस्ट जारी की थी। इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भी उपस्थित रहने की संभावना है। माना जा रहा है कि विपक्ष पार्टियां इन पर बहस के साथ विरोध कर सकती है।

Read More: Health Tips : सर्दियों में अमृत समान होता है गर्म पानी, इसे पीने से होते हैं कई फायदे


सदन में कांग्रेस उठाएगी ये मुद्दे

बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने संसद के शीतकालीन सत्र को लेकर शनिवार को पार्टी की संसदीय दल बुलाई थी। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और सोनिया गांधी की अगुवाई में एक अहम बैठक 70 मिनट तक चली। इस बैठक में पार्टी सदन में भारत-चीन सीमा तनाव, महंगाई समेत कई मुद्दों को संसद में उठाने का फैसला लिया है जो जनता और देश की सुरक्षा से जुड़े है।

सदन में रचनात्मक बहस की उम्मीद : केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री
केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने संसद के दोनों सदनों का कामकाज सुचारू रूप से चलाने के लिए विपक्षी दलों के सहयोग की उम्मीद करते हुए कहा कि, अमृत काल के बीच इस सत्र के दौरान विधायी कार्यों और अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की उम्मीद है। उन्हें सदन में रचनात्मक बहस की उम्मीद है।

पहले भी दिसम्बर में हो चुका है शीतकालीन सत्र
शीतकालीन सत्र आमतौर पर नवंबर के तीसरे सप्ताह में शुरू होता है। पर इस बार दिसम्बर माह में शुरू होने जा रहा है। वैसे 2017 और 2018 में सत्र का आयोजन दिसंबर में किया गया था।